गुजराती भाभी को चोद कर बच्चा दिया


हलो दोस्तों, मैं आपका दोस्त असलम। मैं फिर से हाज़िर हूं एक नई कहानी लेकर। दोस्तों आप लोगों ने मेरी पिछली कहानी पढ़ी होगी। उस कहानी में मैंने बताया था, कि पाॅर्न ऐक्टर बनने के अलग ही मज़े है।

अगर आपने मेरी पहली कहानी नहीं पढ़ी है, तो पहले मेरी पहली कहानी पढ़िए। उसके बाद ये कहानी आपकी समझ में आएगी। अब ज्यादा समय ना लेते हुए, मैं कहानी पर आता हूं।

दोस्तों मैं असलम हूं। मेरी उम्र 28 है और मेरे लंड का आकार 7 इंच लम्बा और 2.5 इंच मोटा है, जो कुदरत की करामात है। दोस्तों मेरी पिछली कहानी पढ़ कर दीप्ति पटेल नाम की पाठिका ने ई-मेल की और पूछा, कि क्या ये मेरी सच्ची कहानी है या नहीं। और मैंने जवाब दिया-

मैं: हां है। क्यों ?

फिर उसने फिर से मेल की और कहा-

दीप्ति: क्या तुम मुझे मिल सकते हो ?

फिर मैंने जवाब दिया: क्यूं मिलना चाहती हो? और कहां से हो तुम ?

फिर उसने जवाब दिया और बताया-

दीप्ति: मेरा नाम दीप्ति पटेल है। और मैं गुजरात से हूं। मैंने तुम्हारी कहानी पढ़ी है। और मैं सेक्स चाहती हूं । मेरी शादी हुए 4 साल हो गए, लेकिन कोई बच्चा नहीं है। मैंने बहुत दवाई करवाई, लेकिन कोई फर्क़ नहीं पड़ा। इसलिए मैं तुमसे मिलना चाहती हूं।

फिर मैंने जवाब दिया: इतनी ज्यादा कहानियां है, तुमने मुझे ही ईमेल क्यूं की है ?

तब वो बोली: मैंने कहानियां बहुत पढ़ी है। लेकिन तुम पाॅर्न में काम किए हो। इसलिए तुममे मुझे अलग ही बात लगी। तुम मिलोगे या नहीं, इतना बोलो?

और फिर मैंने जवाब दिया: ठीक है, मैं मिलूंगा। लेकिन मेरा फीस रहेगी। अब अगर तुम मिलना चाहती हो तो बोलो?

तब उसका जवाब आया: ठीक है। दे दूंगी।

फिर मैं बोला: कहां आना है?

तब उसने मुझे गुजरात का पता दिया और हमने 3 दिन बाद का प्रोग्राम फिक्स किया। वहां दीप्ति ने रैस्टोरेंट बुक किया हुआ था और उसने मुझे पता दे दिया। फिर मैं 3 दिन बाद उस रैस्टोरेंट में पहुंच गया और रिसेप्शन पर रूम नंबर बोला, जो दीप्ति ने बताया था। तब उसने मुझे रूम की चाबी दी। वो रूम मेरे नाम से ही बुक हुआ था और रूम मे जाकर मैंने दीप्ति को कॉल की। तब दीप्ति बोली-

दीप्ति: मैं रास्ते में हूं। 30 मिनिट में आ जाऊँगी।

फिर तब तक मैं फ्रेश हो गया। थोड़ी देर में रूम की बैल बजी। मैंने दरवाज़ा खोला और सामने एक मस्त खूबसूरत औरत थी। मैं उसको देख कर पागल हो गया। क्या मस्त लग रहीं थीं दीप्ति। फिर वो बोली-

दीप्ति: अंदर आने देगा?

फिर वो अंदर आई और मैंने दरवाज़ा बंद किया। उसके बाद मैंने दीप्ति को पीछे से बाहों मे ले लिया। तब दीप्ति बोली-

दीप्ति: इतना भूखा है क्या?

तब मैं बोला: तुझे देख कर मेरी भूख बड़ गयी।

दोस्तों दीप्ति का जिस्म 36″34″ 38″ था और वो साड़ी पहन कर आई थी। इसलिए उसकी पेट की नाभि का पूरा नज़ारा दिख रहा था। अब मैंने दीप्ति को सीधा घुमाया और उसकी साड़ी का पल्लू हटा दिया। फिर मैं उसको किस करने लगा ऊऊऊमममम… ऊऊऊऊ.. ऊऊऊममम… म्उऊऊमम्…

लगभग 20 से 30 मिनट हमनें किसिंग की और अब मैं उसके 36″ के स्तन दबाने लगा और मैंने दीप्ति का ब्लाउज़ उतार दिया। फिर दीप्ति ने मेरी टी-शर्ट उतार दी। अब मैं दीप्ति की ब्रा के ऊपर से दीप्ति के स्तन दबा रहा था। क्या मक्खन जैसे स्तन थे उसके। फिर मैं 7 से 15 मिनट जोर-जोर से उसके स्तन दबाता रहा।

दीप्ति भी मेरी छाती सहला रही थी और अपनी जीभ से चाट रही थी। अब मैंने दीप्ति की ब्रा खोल दी और दीप्ति के स्तन चूसने लगा और दीप्ति ने अपना एक हाथ मेरी जींस के ऊपर से ही लंड पर ले गयी और मेरा लंड सहलाने लगी। अब मैं दीप्ति के स्तन काट रहा था और निप्पल चूस रहा था।

दीप्ति के मुंह से सिसकियां निकल रही थी: आईईईई.. आआईईईऊऊऊ..

वो सेक्सी सिसकियां भर रहीं थी। 30 से 40 मिनट किसिंग, स्तन दबाई और चूसाई चलती रही। अब दीप्ति ने मेरी जींस उतार दी और मेरा अंडरवियर भी उतार दिया। फिर वो मेरा लंड देख कर बोली-

दीप्ति: धांसू लंड है तुम्हारा, एक दम पाॅर्न फिल्म जैसा।

तब मैं बोला: इसीलिए तो मैं पाॅर्न फिल्म में सिलेक्ट हुआ था।

फिर अब दीप्ति घुटने के बल बैठ कर मेरा लंड चूसने लगी। क्या बढ़िया तरीके से चूस रही थी वो, एक दम माल की तरह और मेरे मुंह से ओओओहह… बेबी.. चूसो की आवाज़ें आ रही थी। मैं दीप्ति का सिर पकड़ कर पूरा लंड मुंह के अंदर तक डाल रहा था। लगभग 30 से 45 मिनिट मैंने लंड दीप्ति के मुंह में पेला और अपना पानी दीप्ति के मुंह मे छोड़ दिया।

तभी दीप्ति बोली: भोंसड़ी के, लोड़े, ये क्या? मैंने आज तक पानी नहीं पिया है। बहुत अजीब लग रहा है।

तब मैं बोला: मादर-चोद चुप, साली बहन की लोड़ी। तेरे मुंह मे पानी देकर तेरे मुह की प्यास मिटा दी मैंने।

तब दीप्ति बोली: सही बोला।

फिर अब मैंने दीप्ति का पेटीकोर्ट खोल दिया और साथ में दीप्ति की ब्लैक पैंन्टी भी उतार दी। उसके बाद मैंने दीप्ति को बेड पर सीधा लिटा कर 69 पोस में किया। मैं दीप्ति की चूत चाट रहा था और दीप्ति मेरा लंड चूसने लगी। फिर मैं दीप्ति की चूत मे उँगली भी किए जा रहा था। मैंने लगभग 30 से 35 मिनिट दीप्ति की चूत चाटी और दीप्ति की चूत का नमकीन पानी पिया।

अब दीप्ति बोली: मेरे चोदूबाज़, अब नहीं रह सकती मैं। चोद दे मुझे।

फिर मैंने दीप्ति को सीधा लिटा दिया और मैं घुटने के बल बैठ गया। मैंने दीप्ति की दोनों टांगे पकड़ी और मेरा लंड दीप्ति की चूत पर सेट किया और अंदर बाहर करने लगा। फिर एक दम से मैंने दीप्ति की चूत फाड़ते हुए, दीप्ति की चूत के अंदर अपना लंड डाल दिया और दीप्ति चीख उठी।

दीप्ति: आआओओओ.. माँ….. अबे लोड़े, भोंसड़ी वाले। मेरी चूत की माँ चोद दी. बहुत लोहा लंड है तेरा।

यह सुन कर मेरे में और उत्तेजना बड़ गई और मैंने एक से तीन बार धक्का पेल कर लंड अंदर-बाहर किया और फिर चूत चोदने लगा और अब दीप्ति भी मज़ा लेने लगी और बोली-

दीप्ति: बेकार लंड है मेरे पति का। उससे कुछ नहीं होता।

और फिर मैंने लगभग 40 से 45 मिनट दीप्ति की चूत चोदी और मेरा पानी दीप्ति की चूत में छोड़ दिया। मैं फिर 15 मिनट दीप्ति के ऊपर लेटा रहा और लंड पूरा चूत में दबाए रखा, ताकि मेरा पानी उसकी बच्चेदानी तक पहुंचे। अब मेरा लंड दीप्ति की चूत से निकला। दीप्ति भी झड़ चुकी थी और मेरा लंड एक दम चिकना हो गया था।

अब मैंने फिर से दीप्ति के मुंह में अपना लंड दिया और 7 से 10 मिनट चुसवाया। फिर मैं दीप्ति को बोला-

मैं: उल्टी घूम।

और मैंने उसको कुतिया बना दिया। फिर दीप्ति बोली-

दीप्ति: धीमे डालना। कभी लिया नहीं मैंने गांड में।

तब मैं बोला: मादर-चोदनी मज़ा लेने दे।

तब दीप्ति बोली: ठीक है पिक्की चोदीना चोदीले मारी गांड।

दीप्ति यह गुजराती में बोली। लेकिन मैं समझ नहीं पाया, क्यूंकि मैं दिल्ली का लौंडा हूं। अब मैंने दीप्ति की गांड मे मेरा लंड घुसाना शुरु किया। लेकिन दीप्ति की गांड बहुत कसी हुई थी। मुझे लंड अंदर डालने मे दिक्कत हो रही थी और दीप्ति को दर्द भी हो रहा था।

फिर मैं दीप्ति को लंड पर तेल की मालिश करने को बोला। दीप्ति ने भी तेल से मेरे लंड की मालिश की और अब फिर से मैं दीप्ति को डॉगी बना कर लंड पेला। फिर मैं पूरा लंड पेल कर दीप्ति की गांड मारने लगा और दीप्ति भी अपनी गांड की ठुकाई के मज़े लेने लगी। फिर लगभग 45 मिनिट मैंने दीप्ति की गांड पेली।

उसके बाद मैंने अपना पानी दीप्ति की गांड मे छोड़ा और चुदाई से पूरा बैड हिला दिया था। फिर हमनें 4 से 5 राउंड किए। उसके बाद दीप्ति मुझसे 2 से 3 बार मिली और मेरे वीर्य से माँ बनी है। उसके बाद वो मुझे नहीं मिली। उसे सिर्फ बच्चे के लिए सेक्स करना था। दोस्तों दीप्ति की उम्र 34 की थी, लेकिन दिखने में वो 29 की लगती थी।

तो आपको मेरी ये कहनी कैसी लगी ? मुझे ज़रूर बताए और जो औरत बच्चा चाहती हो या और कोई कुंवारी लड़की शादी से पहले मज़े चाहती हो। वो मेरी ई-मेल पर मेल करे। धन्यवाद!

[email protected]

Leave a Reply