जब मस्त माल बगल में सोई हो तो नींद कैसे आये – Crazy Sex Story

Aunty Ki Tight Chut

हेलो दोस्तों मेरा नाम अमित है। मैं २० साल का हूँ, मेरे लंड का साइज 7 इंच लम्बा और 2.5 इंच मोटा है। आज मैं आपको मेरे और मेरे घर बगल वाली आंटी की चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हु। मेरे घर के बगल में एक आंटी और उनके पति रहते हैं। Aunty Ki Tight Chut

उनके शादी को लगभग २२ साल हो चुके हैं, लेकिन अभी तक उनका कोई भी बच्चा नहीं है. सायद अंकल में ही कोई कमी होगी क्यूंकि आंटी तो एकदम पटाखा लगती है। उनका फिगर ३६-३२-३४ का होगा। वो थोड़ी मोटी जरूर है लेकिन उनका बदन एक दम दूध जैसा गोरा है।

अंकल का ट्रांसपोर्ट का बिज़नेस है तो वो अपने काम के सिलसिले में बहार ही रहते हैं|  अंकल की गैरमौजूदगी में, मैं आंटी का सारा काम करता हूँ, जैसे बाज़ार से सामान लाना वगेरा -वगेरा। अंकल मुझे अपने बेटे के जैसा ही मानते हैं।

मैं जब भी आंटी के घर जाता था तो वो हमेशा मक्सी में ही रहती थी, जिसमे से उनके बड़े-बड़े दूध झाकते रहते थे। सायद आंटी घर में चड्डी नहीं पहनती थी क्यूंकि मक्सी में भी उनकी गांड की दरार साफ़-साफ़ दिखती थी।

मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी : मम्मी साथ सेक्स चैट लॉकडाउन में कुतिया बना कर चोदा

मैं जब भी आंटी को मैक्सी में देखता हूँ तो मुझे उन्हें पटक के चोदने का मन करता है, मैं ये भी जानता था की आंटी को भी सेक्स की जरुरत है क्यूंकि अंकल उन्हें नहीं चोद पाते हैं। लेकिन मैं कुछ करने से डरता हूँ.

लेकिन वो कहते हैं ना की जिससे आप सिद्दत से चाहो, दुनिया की हर चीज़ आपको उससे मिलाने में लग जाती है, ठीक वैसा ही हुआ। दिसंबर का महीना था, कड़ाके की ठण्ड पड़ रही थी, अंकल को अपने बिज़नेस के काम से बहार जाना पड़ रहा था.

तो अंकल ने मुझे बुलाया और कहा की “मैं कुछ काम से दूसरे स्टेट जा रहा हु तो अपनी आंटी का ख्याल रखना,” और उन्होंने मुझे कुछ पैसे देने चाहे पर मैंने मना कर दिया। अंकल चले गए, शाम को आंटी का फ़ोन आया की “तू आजा मार्किट से दवाई ला दे”.

मैने पूछा की आंटी “क्या हुआ है आपको” तो उन्होंने कहा की तू आजा फिर बताती हु। मैं जल्दी से उनके घर पंहुचा तो देखा की आंटी चादर ओढ़े बैठी हुई है. मैंने पूछा की क्या हुआ, तो उन्होंने बताया की सायद उन्हे ठण्ड लग गयी है, और थोड़ा बुखार भी है।

मैंने कहा की आप आराम करो मैं दवाई ला देता हूँ, उसके बाद मैं दवाई लाने चला गया. थोड़ी देर दवाई लेकर लौटा और आंटी को खिला दिया और कहा की आप सो जाओ. मैं यहीं रुक जाता हूँ अगर आपको किसी चीज की जरुरत होगी तो मुझे बता देना।

चुदाई की गरम देसी कहानी : चुदासी भाभी बिस्तर पर सेक्स का जबरदस्त मज़ा देने लगी मुझे

तो वो कहने लगी की तुम तकलीफ मत करो, मैंने कहा की इसमें तकलीफ की क्या बात है, वैसे भी अंकल ने मुझे आपका ख्याल रखने को कहा है। तो उन्होंने कहा की ठिक्क है तू यही रुक जा मैं तुम्हारे लिए कुछ खाने को बन देती हूँ.

मैंने कहा की आप रहने दो मैं खुद ही कुछ बना लूंगा, आप सो जाओ थोड़ी देर। इसके बाद मैंने अपने घर फ़ोन कर बता दिया की आज मैं आंटी के घर में ही रुकने वाला हूँ। आंटी दवाई खाकर अपने कमरे में सोने चली गयी.

मैं मैग्गी बनाकर टीवी देखते-देखते खाने लगा। खाने के बाद मैं आंटी के रूम में देखने चला गया की वो सोई है या नहीं. वहां मैंने देखा की आंटी कम्बल में भी काँप रही है, पास जाकर देखा तो उन्हें बहुत तेज बुखार था.

मैंने आंटी से पूछा की आपने दवाई तो ली है न, तो आंटी ने कहा की दवाई से कुछ असर नहीं हो रहा है। मैंने कहा की मैं तेल गरम करके आपको मालिश कर देता हूँ तो वो मना करने लगी. फिर भी मैं किचन में गया और ते गरम करके लाया।

पर आंटी मुझे मालिश करने से मना कर रही थी, फिर मैंने उनके कम्बल को उठा दिया और दोनों पैरो को निकल दिया। और उनके मैक्सी को ऊपर उठाने लगा पर वो मुझे रोक रही थी. पर मैं रुका नहीं और उनकी मैक्सी को ऊपर उठा दिया उनके जांघ तक.

उनके पैरो में एक भी बाल नहीं थे और टांग भी एकदम चिकणी थी. ये देखकर अचानक मेरे लंड टनक गया पर मैं चुपचाप मालिश करने लगा. थोड़ी देर मालिश करने के बाद वो सो गयी। ये देखकर मैंने उनके मैक्सी को धीरे से और थोड़ा उठा दिया अब उनका जांघ पूरी तरह दिख रहा था.

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : गांजा पीकर बहन के साथ दुष्कर्म किया

उनकी गोरी गोरी जांघ देख कर मैं पागल हो रहा था औ और सोच रहा था की अभी ही चोद दू. पर मैंने अपने जज्बातो को काबू किया, मुझे सक था की आंटी चड्डी नहीं पहनती है. ये देखने के लिए मैंने उनके टांगो को थोड़ा फ़ैला दिया और अपना मोबाइल निकला और फ़्लैश ओंन कर के देखा तो हैरान रह गया।

मेरा सक सही था आंटी ने चड्डी नहीं पहनी थी. उनकी उभरी हुई चिकनी चुत मुझे साफ साफ दिख रही थी. ये देख कर मैं इतना पागल हो गया की उनकी छूट में उंगली करने की सोचने लगा. और अपना हाथ उनकी छूट की तरफ बढ़ाने लगा.

मैं कांप रहा था जिसकी वजह से मेरे मोबाइल का फ़्लैश उनके आंख में पड़ गया और वो अचानक उठ गयी. मैं डर गया, उन्होंने अपना मक्सी निचे किया और कहा की तू अभी तक यही है “सो जा”. अब मैं उठ कर जाने लगा तो उन्होंने कहा की कहा जा रहा है.

मैंने कहा की हॉल में सोने जा रहा हूँ तो उन्होंने कहा की यही सो जा हॉल में ठण्ड लगेगी वह हीटर नहीं है. मैं तो मन ही मन खुस हो रहा था पर नाटक करते हुए कहा की नहीं मैं हॉल में ही सो जाता हूं.

तो वो बोली तुझे भी अपना तबियत बिगड़ना है क्या “चुपचाप यही सो जा “. उसके बाद मैं बेड के दूसरी तरफ सो गया, उसके बाद आंटी उठ कर बाथरूम में चली गयी सायद पेशाब करने फिर आकर सोने लगी।

आंटी ने कमरे की बत्ती ओंन ही छोड़ दी सायद वो बत्ती जला कर ही सोती थी। लगभग आधे घंटे बाद आंटी सो चुकी थी पर मुझे नींद नहीं आ रही थी. जब इतनी मस्त माल बगल में सोई हुई है तो किसी को भी नींद नहीं आएगी।

मैं आंटी के तरफ मुँह करके बस आंटी की गांड को निहार रहा था. मेरा लंड तो २१ तोप्पो की सलामी दे रहा था अब मुझे रहा नहीं जा रहा था। मैं धीरे धीरे से हिम्मत करके आंटी के गांड को सहलाने लगा.

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी : अन्तर्वासना बुर चुदवाने को चाची ने चालबाज़ी की मुंबई टूर पर

वो नींद में ही थी ये देख के मेरा हिमत और भी बढ़ गयी. अब मैं उसके गांड को हलके हलके दबा भी रहा था। पर वो कोई भी हरकत नहीं कर रही थी ये देख कर मेरा हौसला और भी बढ़ रहा था. अब मैंने उनके मैक्सी को धीरे धीरे ऊपर उठाना सुरु किया.

अभी भी वो कोई हरकत नहीं कर रही थी। अब मैंने उनकी मैक्सी को कमर तक चढ़ा दिया और उनकी नंगी गांड पर हाथ फेरने लगा और दबाने लगा, अब मेरा हाथ उन के दूध के तरफ जाने लगा। मैं धीरे धीरे उनके दूध को दबा रहा था उफ़ क्या मस्त मुलायम दूध थे.

मैं भी पुरा मदहोश हो चूका था क्यूंकि पहली बार मैं किसी आंटी के दूध दबा रहा था। अब मैं अपना हाथ उनकी चुत पर ले गया तो पता चला की उनकी छूट तो पूरी तरह गीली है पानी छोड़ रही है.  मैं उसी समय समझ गया की वो नींद में नहीं है जगी हुई है.

पर मैंने कुछ नहीं कहा और उनकी चुत सहलाने लगा, वो अब भी चुपचाप थी. मैंने अब उनकी चुत में एक ऊँगली डाल दी जिससे उनकी चीख निकल गयी. मैं डर गया अपनी ऊँगली बहार निकाल ली और आंटी को सॉरी कहने लगा। “Aunty Ki Tight Chut”

पर वो कहने लगी कोई बात नहीं इसी चीज़ के लिए रो मैं तरस रही हूँ कब से, तेरे अंकल कुछ नहीं कर पते है उनका लंड भी बहुत छोटा है, प्लीज मेरी प्यास बुझा दो, मैं बहुत दिनों की प्यासी हूँ प्लीज।

मैंने अपना ऊँगली फिर से डालकर अंदर बहार करने लगा. वो आह आह आ आह आह ऊह ऊह ऊह ऊह. ईस इस्सस ईएसएस स्स्स्सस्स्स्स की आवाज़ निकल रही थी. अब मैंने उनके ऊपर से उनकी मैक्सी को हटा दिया.

अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा में थी माँ कसम बहुत ही सेक्सी लग रही थी. मैं उनके दूध को ब्रा के ऊपर से ही जोर जोर से मसल रहा था. वो उम्ह उम्ह उम्ह आह आह इह इह इह ,,,,,,,,,,,,,, की आवाज़ निकल रही थी.

थोड़ी देर बाद मैंने उनकी ब्रा भी उतर दी और उनके होठ को चूमने लगा. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी, एक हाथ से मैं उनकी छूट भी सेहला रह था. करीब १० मिनट बाद वो कहने लागी की मेरी चुत की प्यास बुझा दी प्लीज.

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : गोरी जांघे कुंवारी लड़की की उसकी छोटी स्कर्ट में दिखाई दे रहा

अब मैंने उनकी टांगो को फैलाया और उनकी गुलाबी चुत में लंड रगड़ने लगा. और फिर जोर से एक झटका मारा, मेरा सुपाड़ा भी अंदर नहीं गया. पर वो चिल्ला उठी ऊऊफफफफफफ माँ मरगयी हाय, उनकी चुत एकदम टाइट थी.

सायद वो बहुत दिनों से चुदी नहीं थी फिर मैंने कसकर ४ झटके मारे. तो मेरा लुंड फिसलता हुआ उनकी छूट में घुस गया पर आंटी का बुरा हाल हो गया था दर्द से। सायद वो इतने मोठे लंड से पहली बार चुदी थी. “Aunty Ki Tight Chut”

करीब आधे घंटे चुत चोदने के बाद मैं झड़ गया और अपना सारा माल उनकी चुत में ही गिर गया। जो की उनकी चुत में से भी टपकने लगा। फिर मैंने उनसे कहा की अब मुझे आपकी गांड मारनी है तो वो डर और कहने लगी नहीं मैंने कभी अपनी गांड नहीं मरवाई.

सुना है उसमे बहुत दर्द होता है मैंने कहा की आज मरवा के देख लेना तो वो मना करने लगी. तो मैंने भी उनको ज्यादा फार्स नहीं किया क्यूंकि उनकी तबियत भी ख़राब थी। लेकिन उस रात मैंने उनकी ४ बार चुत मारी और उनको पूरी तरह संतुस्ट किया। अब जब भी अंकल बहार जाते हैं तो मैं उन्हें चोदता हूँ। तो दोस्तों कैसी लगी कहानी कमेंट में बताइये।

दोस्तों आपको ये Aunty Ki Tight Chut की कहानी मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे……….


Leave a Reply