Aunty Ki Garam Malish – माधुरी आंटी की प्यारी सी चूत

Aunty Ki Garam Malish

दोस्तों मेरा नाम वीरू है, ये कहानी मेरी आंटी की चुदाई की है. दोस्तों में रात में आंटी के घर पहुँचा, जब यही कोई 11 बजे का समय हुआ था. अब बच्चे सोने में मशगूल थे. अब में उनकी पीठ पर बाम लगाने के लिए तैयार था. फिर मैंने देखा कि आंटी अपनी पीठ पहले से खोलकर अपने पेट के बल लेटी थी. अब मेरे हाथ उनकी पीठ पर बाम के साथ-साथ फिसलने लगे थे. Aunty Ki Garam Malish

अब में उनकी पीठ पर बाम मलता जा रहा था और उत्तेजित होता जा रहा था. आंटी का नाम माधुरी था, में उन्हें मधु बोलता था. अब मधु की गोरी-गोरी पीठ को देखकर में मस्त होता जा रहा था. अब में मन ही मन कल्पना कर रहा था कि कब मधु की प्यारी सी चूत के दर्शन हो? वो चूत जो मधु की जाँघो के बीच में क़ैद है, उसकी चूत में कितनी खुशबू होगी? उसकी चूत पर बाल भी होंगे? उसकी चूत पर धीरे-धीरे अपना हाथ फैरता रहूँगा, उसकी गोरी-गोरी जाँघो के ऊपर दाँत से काटूँगा, कभी बीच-बीच में उसकी चूत के अंदर उंगली भी डाल दूँगा, जिससे मधु चिल्ला उठेगी.

मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी : Bus Me Apni Chut Sahlane Diya Sexy Ladki Ne

अब यह सब सोच-सोचकर में पागल हुए जा रहा था, लेकिन अभी में मसाज कर रहा था कि जल्द ही वो वक़्त आ जाएगा. अब मुझको उसकी ब्रा के हुक की वजह से दिक्कत हो रही थी तो मैंने उसकी ब्रा के हुक को खोल दिया. अब मधु की पीठ मुझे मदहोश कर रही थी. अब में बाम लगाता-लगाता मधु की कमर के नीचे पहुँच गया था. अब उसकी कमर पर सलवार का नाड़ा टाईट होने की वजह से मेरे हाथ नीचे नहीं जा रहे थे. फिर में मधु को बोला कि डार्लिंग, मधु थोड़ा अपनी कमर उठाना.

उसकी कमर उठाते ही में अपना एक हाथ मधु के आगे ले गया और उसकी सलवार के नाड़े को खोल दिया और उसकी चूत को भी अपने हाथ से दबा दिया. अब उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी और मधु के मुँह में से भी आँहे भरने की आवाज़ आ रही थी. अब मधु बीच-बीच में उहह, आहह की आवाजे निकाल रही थी. फिर मैंने उसके सलवार के नाड़े के ढीले होते ही उसके सलवार को नीचे सरका दिया, तो उसकी सलवार सरकते ही में पागल हो गया.

मधु ने सलवार के नीचे कुछ नहीं पहन रखा था और अब में उसके गोरे-गोरे चूतड़ देखकर ज़ोर-ज़ोर से मसलने लगा था और बीच-बीच में उसके चूतड़ पर अपने दाँत भी चुबा देता था. फिर मेरे दाँत चुभते ही वो कहती वीरू आई लव यू, तुम पहले क्यों नहीं मिले? अब में तेरी हो चुकी हूँ, कई सालों के बाद मेरी चूत की गर्मी बाहर आने को बैचेन हो रही है, तुमने मुझे फिर से मस्त कर दिया है और फिर वो झटके में उठी और मेरी बनियान और पेंट खोल दी. अब मैंने भी अंडरवेयर नहीं पहन रखा था.

चुदाई की गरम देसी कहानी : Rasbhare Boobs Ki Malkin Ka Ras Pine Ka Muaka Mila

अब मधु मेरे लंड को पकड़कर प्यार से चूमने लगी थी. मधु को कमर में दर्द तो था, लेकिन थोड़ा दर्द था. अब वो सिर्फ़ बहाना बनाकर मुझको पास लाना चाहती थी और अब में मधु को दबोचने लगा था. फिर मैंने कब मधु के शरीर से उसके सलवार को खोलकर फेंक दिया? मुझे पता भी नहीं चला.

अब हम दोनों एक दूसरे को पागलों की तरह किस करने लगे थे. अब हम भूल गये थे कि शरीर में लंड और चूत भी होते है और शरीर के सारे अंगो को चूस-चूसकर लाल कर दिया था, कभी में चूत चूसता और उसकी चूत में अपनी मूंछे चुबा देता, जिससे मधु को गुदगुदी सी लगती थी और वो अपने पूरे बदन को करंट की तरह हिलाकर रख देती थी और बोलती कि वीरू तुम बहुत अच्छे हो और तुम तो मुझे पागल बनाकर ही छोड़ोगे, में तुम्हारी हरकत की दीवानी हो गयी हूँ, तुम्हारे अंकल ने कभी भी मेरी चूत को नहीं चाटा और तुमने तो चूत, गांड, चूची सभी को चाट-चाटकर लाल कर दिया है, मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि ऐसा प्यार मिलेगा, काश तुम पहले मिलते तो में इतना बैचेन नहीं होती और फिर मधु मेरा लंड चूसने लगी.

अब वो भी मेरे लंड को पूरा अपने मुँह के अंदर तक लेकर खा जाती थी. अब मैंने उसकी चूची को चूस- चूसकर बहाल कर दिया था और वो बीच-बीच में मेरे लंड के बाल को भी खींच देती थी, जिससे में चिल्ला पड़ता था. मेरे लंड पर लंबी-लंबी झाटें उगी हुई थी, जिसे मधु बड़े प्यार से सहला रही थी और मौका मिलते ही बालों को खींच भी देती थी. मधु की चूत पर भी काली घने घुँगराले बाल उगे हुए थे. फिर में उसकी चूत के बालों को सहलाता रहा और मधु चिल्लाती, अरे बहन के लंड सिर्फ़ सहलाएगा ही या अपनी तीसरी टांग भी मेरी चूत के अंदर डालेगा.

तभी में भी जोश में आकर बोला कि साली चुप रह, पहले में तेरी मखमल जैसी चूत का तो मज़ा ले लूँ, तेरे इस गदराये से बदन में छोटी-छोटी झाटें बड़ी प्यारी लग रही है और उसकी चूत में अपनी एक उंगली डालकर मधु को उतेज्ज़ित करने लगा. अब उसकी आवाज पूरे रूम में गूँज रही थी.

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : Mom Ki Chut Ki Khushboo Aur Barish Ka Mausam

अब वो कभी ऊवू, आहह तो कभी आहह वीरू धीरे, प्लीज डाल दो, अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है, जल्दी करो, अपने मोटे से लंड को मेरी चूत का मज़ा दे दो और कब मधु ने मेरे लंड को अपनी चूत पर लगाया मुझे पता ही नहीं चला. अब में तो अपने होश खो चुका था तो तभी मुझे अचानक से गर्म-गर्म सा रस महसूस हुआ, तो पता चला कि मेरा लंड तो मधु की चूत में आधा जा चुका है.

मधु की कई सालों से चुदाई नहीं होने की वजह से उसकी चूत टाईट हो गयी थी इसलिए अब मुझको थोड़ा ज़ोर लगाना पड़ रहा था. अब मधु उहह, आह, उउन्न, उईईई किए जा रही थी. अब में भी पागल हो चुका था.

मैंने अपना लंड थोड़ा बाहर निकालकर एक जोरदार धक्का मारा तो मेरा लंड आधे से ज्यादा उसकी चूत में घुस गया. अब मधु की आँखों में से आसूं निकल पड़े थे और बोली कि साले बहन के लंड जल्दी से डाल दे, साले ये तेरी माँ की चूत नहीं है जो प्यार से डाल रहा है, साले घोड़े जैसा लंड है, चोद जल्दी से, चोद पूरा लंड डालकर, चोद दे मुझे आज, में तेरी हूँ, जी भरकर चोद, फाड़ डाल मेरी चूत को.

तभी में बोला कि साली चूत हो तो तेरी जैसी एकदम मस्त, डालने में जब तक परेशानी ना हो तो चोदने का मज़ा भी नहीं आता है, बहन की लोड़ी कैसा लग रहा है मेरे लंड का स्वाद? अब हम दोनों एक दूसरे को गंदी-गंदी गालियाँ देते जाते और चोदते जा रहे थे. अब पूरा माहौल चुदाई का हो गया था.

फिर मैंने एक और जोरदार धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया. फिर तभी वो बोली कि साले बहन के लंड चोद, फाड़ डाल मेरी चूत को. तो में बोला कि अरे कुत्तियाँ चुप रह अभी तेरी गर्मी निकाल देता हूँ, ज्यादा चिल्लाएगी तो आज तेरी गांड भी मार लूँगा. फिर वो बोली कि साले पहले चूत की तो गर्मी निकाल, तब तुझको गांड देती हूँ.

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : College Ki Sexy Maal Ki Panty Sungh Kar Muth Mara

मैंने 4-5 जोरदार झटके मधु की चूत पर मारे तो इसके साथ ही उसकी चूत से रस निकल पड़ा, तो ठीक उसी समय मेरा लंड भी ज्वालामुखी की तरह लावा उगलने वाला था. अब मधु भी झड़ने वाली थी, झड़ने का ऐसा जबरदस्त आनंद मधु को कभी नहीं मिला था, शायद यह मेरे मोटे और मजबूत लंड का ही कमाल था.

जिसकी मदद से उसकी चूत को बुरी तरह से चोद डाला था और मुझे सुख की असीम ऊँचाइयों पर पहुँचा दिया था. और फिर में वापस से 15 मिनट तक बिना रुके उसके ऊपर अपने चूतड़ को उछाल-उछालकर चोदता रहा और वो मुझे गालियाँ देती रही साले बहन के लंड फाड़ डालेगा क्या? में मर गयी, कुत्ते अपने मूसल लंड को बाहर निकाल. फिर मैंने कहा कि निकालने वाला लंड नहीं है.

अब तब तक वो दो बार झड़ चुकी थी. फिर में साली मधु बहन की लोड़ी से बोला कि साली कुतिया बन जा और अपने घुटनों पर बैठ जा. तो वो झट से अपने घुटनों के बल पर बैठ गयी, तो मैंने पीछे से अपने लंड को उसकी चूत में डाल दिया और उसकी एक टांग उठाकर चोदता रहा. और वो चिल्लाती रही उन्न्ञणणन, साले फाड़ डाली, हरामी छोड़ दे और में पागलों की तरह उसको चोदता रहा. “Aunty Ki Garam Malish”

और वो बस भी कर में थक चुकी हूँ बोलती जा रही थी. अब तब तक वो एक बार और झड़ चुकी थी. फिर तभी में बोला कि साली आज रात में अपनी गांड देगी या नहीं. अगर नहीं देगी तो तेरी बेटी की चूत मार लूँगा. तो वो बोली कि साले कुत्ते बहन के लोड़े तेरा लंड झड़ता क्यों नहीं है? तो मैंने अपना धक्का और तेज किया और बोला कि ये ले और ले साली और ले और तेज-तेज धक्के मारता गया.

फिर थोड़ी देर के बाद में झड़कर अपने लंड का पूरा रस उसकी चूत में डालकर मधु के ऊपर ही सो गया, तो तभी मधु बोली कि साले पूरे महीने की चुदाई एक ही दिन में कर डाली, अब में ना चल सकती हूँ और ना खड़ी हो सकती हूँ, साले तेरा लंड मूसल है, फाड़ डाला मेरी चूत को, देख वीरू कितना खून निकाल दिया है? तो तब में बोला कि गांड मरवा ले नहीं तो तेरी बेटी को चोद कर आता हूँ.

तभी वो बोली कि वीरू प्लीज आज छोड़ दे, आज में थक गयी हूँ और मेरी बेटी को छोड़ दे, लेकिन में वादा करती हूँ की अपनी बेटी की पहली चुदाई तेरे से ही करवाऊंगी. फिर तब में बोला कि एक राउंड और हो जाए, तो वो बोली कि नहीं, अब बस और फिर मधु बाथरूम में चली गयी. फिर में भी उसके पीछे से बाथरूम चला गया और उससे बोला कि तुम मेरे लंड पर पेशाब करो और में तेरी चूत पर पेशाब करता हूँ.

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : Sonam Ki Bra Khol Kar Chudai Ki Suruaat Kar Diya

वो बोली कि नहीं, तो तब में बोला कि तो आज गांड मरवा. फिर तब जाकर उसने मेरे लंड को अपनी चूत के पानी से धो दिया और मैंने मधु की चूत को अपने लंड के पेशाब से घुमा-घुमाकर धो दिया और अब गंदे होने की वजह से हम लोग नहाने लग गये थे.

फिर हम दोनों शॉवर के नीचे जैसे ही खड़े हुए तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और जैसे ही साबुन लगा तो मैंने मधु की चूत में अपना लंड फिर से डाल दिया. “Aunty Ki Garam Malish”

तब वो गाली देती हुई बोली कि साले मादरचोद कितना चोदेगा? साले अभी तक तेरा मन नहीं भरा है क्या? मेरी चूत फाड़ दी और अब क्या चाहिए तेरे को? बहन के लंड और मुझको जमीन पर पटक दिया और अपनी चूत में मेरा लंड डालकर उछलने लगी और बोल रही थी बोल और दूँ और दूँ, साले बोल और चोदगा, ले और ले, चोद फाड़ साले, मेरी चूत फाड़कर रख दी, ले मार ले और मार ले. अब पूरे बाथरूम में पच-पच की आवाज और उह, उह, आह की आवाज आ रही थी.

वहाँ पर 10 मिनट तक चुदाई हुई और फिर हम दोनों नहाकर अपने- अपने कमरे में सोने चले गये और फिर में दूसरे दिन दोपहर के 2 बजे जगा. अब मेरी कमर में दर्द हो रहा था, लेकिन मैंने चुदाई का पूरा-पूरा आनंद लिया था. फिर कुछ दिनों तक हम दोनों की ऐसे ही चुदाई होती रही.

दोस्तों आपको ये Aunty Ki Garam Malish कहानी मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे…………..


Leave a Reply