Bahan Ki Seal Todi – गंजा पीकर बहन के साथ दुष्कर्म किया


Bahan Ki Seal Todi

ये कहानी मेरी और मेरे बहन के बिच हुई घटना है मेरे दादा जी एक मंदिर के पुजारी थे जहा बहोत सारा चढ़ावा आता था इस कारण हमारे पास धन की कोई कमी नहीं थी. मेरे दादा जी का साथ मेरे चाचा जी देते थे मेरे पापा कुंडली देखते थे और श्राद्ध पितृ दोष का का पूजा पाठ कराते थे. मेरी माँ और मेरी चाची घर काम तथा महिलाओ के साथ सत्संग वगेरा करती थी. मेरी सिस्टर सुरभि बीएससी 2 मे थी और मै 12 थ मे मेरे चाचा का लड़का 9 थ मे था. और एक बात भूल गया मेरे पापा संगीत के क्लास भी लेते थे ये मेरे फॅमिली का परिचय हुआ. Bahan Ki Seal Todi

मेरे पास बहोत ज्यादा पॉकेट मनी होती थी जिस कारण दोस्तों के साथ बिगड़ चूका था. मंदिर मे कीर्तन के समय मुझे भी गाँव के कुछ बिगड़े लोग पंडित जी एक कश लगाइ ये बोलते और मै लगाता मुझे दारू गांजा की बहोत ज्यादा आदि हो गया था. इस वजा से मेरे परिवार की बहोत बेजती होरही थी मेरे दादा जी ने मेरे पापा से कह कर बहोत दूर किसी गाँव मे मुझे ले जाकर रहने के लिए कहा ये फैसला मेरे माँ पापा बहन को और मुझे भी पसंद नहीं आया.

पर दादा जी के जिद के आगे कुछ नहीं चला और हम चारो एक नए गाँव मे आकर रहने लगे जहा की लैंग्वेज आदिवासी थी गोंडी. और मेरे पापा पास के ही कान्वेंट मे संगीता पढ़ाने लगे और हम लोग का सिटी मे एडमिशन होगया था. सिर्फ हफ्ता ही हुआ था दादा जी की तबियत ख़राब होने का समाचार मिला हम सब जाने की जिद किये पर पापा अकेले ही गए. 4 दिन बाद पापा जैसे तैसे घर आये तब हमें पता चला मंदिर का पुरोहित बने के लिए मिश्रा ने मेरे दादा चाचा चाची और उनके बेटे को जो कार से डॉ के पास जा रहें थे.

एक्सीडेंट मे मार दिया मेरे चाचा घायल थे और उनका बेटा तो उनको पत्थर सिर पर देकर मार दिए और हम लोगो का गाँव मे आने का इंतजार करने लगा ताकि हम लोगो को भी मार दे. मेरे पापा वहा पहोचे तो हम सब को बुलाने वाले थे पर किसी ने पापा से कह दिया की अंतिम संस्कार कर के निकल जाईये आप के फॅमिली के पीछे भी मिश्रा पड़ा है. मेरे पापा ने अंतिम संस्कार किये उनकी अस्तिया लेकर किसी को हम कहा रहते पता तो था नहीं.

मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी : हरामी दोस्त जबरदस्ती पेलने लगा मेरी सेक्सी माँ को

चुपचाप जान जान बचा कर आगये हम सब का रो रो कर बहोत बुरा हाल था. फिर थोड़ा नार्मल हो गये पापा स्कूल मे पढ़ाने और मै और दीदी collage जाना चालू किये. पापा और माँ ने सख्त मना किया था किसी से भी दोस्ती नहीं करना दीदी ने नहीं की पर फिर मेरी संगत गलत लड़को से होगई. अगस्त का महीना था पितर पक्ष चालू हुआ तो मेरे माँ पापा पितृ दोष शांति के लिए बनारस, गया, और काठमांडू जाने का तय किये.

दीदी और मै भी साथ चलने की जिद करने लगे पर माँ पापा ने समझाया की मिश्रा जरूर हमारी फिराक मे होगा तुमलोग मत आओ. तो हमने उनको भी जाने से मना किया तब पापा बोले प्रिंसिपल सर के पापा का और वहा के बाबू के माँ पापा का भी है तो हम लोग अपना सब संभाल कर कर लेंगे. और माँ पापा चले गए शाम को फ़ोन आया तो दीदी को बताये बनारस मे है सुभ पूजा कर के गया जायेंगे. तुम लोग खाना खाकर कॉलेज जाना फिर भी हमें टेंशन हो रही थी.

फिर माँ पापा से फोन पर बात होती थी गया का प्रोग्राम कर के वे लोग नेपाल चले गए. अब मै थोड़ा टेंशन मे था तो एक निप रख लिया और गांजे का जुगाड़ कर के आगया. हम लोग दोपर मे ही घर आगये थे पर बारिश बहोत थी गांजा पिने का मौका नहीं मिल रहा था. दीदी नाईट सूट पहन कर पहले ही रूम मे सो रही थी और मै टीवी देख रहा था. दोपर मे सोने के कारण और गांजा पीना था इसलिए नींद नहीं आरही थी.

दीदी के सोने के बाद 10 बज रहें थे मै बाथ रूम मे गांजा पिया और फिर सोफे पर आकर टीवी देखने लगा. फिर 5 मिनिट बाद किचन मे जाकर थोड़ी सी शराब भी पी लिया अब दिमाग़ मस्त होगया. फिर मैंने म्यूट करके मोबइल मे पोर्न देखना चालू किया मेरा excitment बढ़ ने लगा. bf की हीरोइन बहोत तागड़ी माल थी फिर मेरी नजर मेरे दीदी पर पड़ी वो तो लेह gooti पोर्न स्टार जैसे same लग रही थी.

मै दीदी के फेस को उनके दूध को ही निहार ने लगा और मेरे अंदर कामुकता बढ़ने लगी. फिर करवट लेते समय दीदी का गाउन उनके घुटने तक आगया मुझे और अंदर देखने की जिज्ञासा बढ़ने लगी. मै अपनी जगा से दो तीन बार उठ कर बेड पर जाकर दीदी की जाँघ देखने की कोशिश कर रहा था पर कुछ दिख नहीं रहा था. फिर सोफे पर बैठ कर मोबइल मे bf और दीदी के तरफ देखने लगा अब मोबइल से इंटरेस्ट ख़तम और दीदी मे बढ़ रहा था.

उनके अंग देखने की अभिलाष बढ़ रही थी और धड़कन भी बहोत तेज होगई थी. फिर थोड़ी हिमत कर के बेड किनारे बैठ कर उनका गाउन बहोत धीरे धीरे ऊपर कर रहा था एक साइड से तो पूरा ऊपर कर दिया. उसकी नाभि चढ़ी कुले दिख रहें थे और मै और exitet होरहा था. फिर दीदी एक करवट लेकर सीधी लेट गई तो मै लेटे लेटे किचन मे गया और थोड़ी से पी लिया अब मेरा हिमत और ज्यादा होगया.

मै सीधा बेड पर आकर उसके अजु बाजु पैर डालकर अपने सारे कपडे निकल कर चढ़ गया और उसका चड्ढी सरकाके पैर जैसे फैलाने गया वो जाग गई. मुझे इस हालत मे देख कर मुझे धका देने लगी मै बोला मुझे करने दे, वो बहोत गली देने लगी. मुझे भी गुस्सा आने लगा उसने मेरे छाती पर नोच दिया मुझे बहोत गुस्सा आया. मैंने बेड पर पड़ी ओढ़नी से उसके हाथ बांध दिए वो चीला रही थी पर हमारे घर के आजु बाजु कोई भी नहीं रहता था इसलिए कोई आने वाला था नहीं.

मेरे हाथ से उसका गाउन फट गया तो उसे और फाड़ कर उसके मुँह पर बांध दिया. जिस से उसकी आवाज़ घुटने लगी और मै उस पर तुट पड़ा ब्रा नोच कर फेक दिया. वो तभी बहोत हाथ पैर मार रही थी मै उसके दोनों पैरो के बिच मे आया और सीधा लण्ड उसकी बुर पर लगा कर धका दिया पर गया नहीं. फिर टॉय किया नहीं गया बुर फैला कर डालने था पर ये पैर मार रही थी. पर दोनों पैरो के बिच मे था तो ज्यादा कुछ कर नहीं पाई.

जैसे तैसे सुपाडा बुर मे डाला और धका बहोत जोर से मारा उसके आँख से आंसू आरहे थे और चेहरे पर तेज दर्द और बहोत तेज सास चल रही थी. मुझे भी बहोत दर्द हो रहा था पर मै उसके बुर मे तेज धके मारने लगा वो दर्द से तड़प रही थी पर मुझे कोई उसे कोई फर्क नहीं पड़ रहा था. और ऐसे हीं पेलते हुए 15,20 मिनिट हुए होंगे मेरा पूरा माल उसकी बुर मे छुट गया. और मै उसके ऊपर निढाल गिर गया वो रो रही थी.

जब मेरा नशा उतरना चालू हुआ तो मुझे ऐसास हुआ की मैंने क्या कर दिया. जब दीदी को देखा तो उसकी चूची से खून आ रहा था जो मेरे काटने से नोंचने से निकल रहा था. गाल गला पूरा लाल होगया था बुर से वीर्य और खून बह रहा था उसकी हालत बहोत ख़राब थी. बुर से खून निकल हीं रहा था मेरे भी लण्ड से खून आरहा था चमड़ी तुट गई थी. अब मेरी फटनी चालू हुई अगर ये मर गई तो क्या होगा और बच गई तो पुलिस मे मेरी कम्प्लीट कर देगी.

चुदाई की गरम देसी कहानी : Lockdown Me Garmai Chut Ko Dildo Se Thanda Kiya

जैसे तैसे मैंने उसका मुँह खोला सॉरी बोला, वो रो रही थी बोली की तुझे छोडूंगी नहीं पुलिस मे कंप्लेंट करुँगी. बोलने लगी मुझे नीच कमीना जो ना वो बोल रही थी मेरा मन कर रहा था की इसे मार कर कही गाड़ देता हु. और मिश्रा पंडित ने मारा कर के पापा माँ को बोलूंगा फिर दिमाग़ मे आया की पुलिस किसी भी तरहा से मुज़से उगलवा लेंगे और हमारी बहोत बेजती होंगी. दीदी माँ पापा का नाम ले ले कर रो रही थी और मुझे गली देकर रोये जारही थी.

मै दीदी से बोला रो मत मै आत्महत्या करने जा रहा हु, वो बोली जल्दी मर हरामी बोलने लगी. फिर मै सोचा अगर मै मर गया इसकी हालत बहोत ख़राब है मर गई तो और फिर पोलिस इसे पूछताछ करके कुछ और हो. इसलिए मै दीदी से बोला माँ पापा को आने दे उस दिन मै आत्म हत्या कर लूँगा मुझे जीने का हक़ बिलकुल नहीं है और मै भी रोने लगा. दीदी के बदन पर चोटों के बहोत सारे निशान थे बुर से खून आ रहा था.

मैंने जबरदस्ती उसे परासिटामोल खिला दिया ताकि इसे भुखार और दर्द ना हो. डेटोल को पानी मे मिलाकर उसके बॉडी को साफ किया पर उसके हाथ बंधे हीं रखा था. बुर तो बुरी तरहा से सूज गई थी और ब्लड आ रहा था क्लीन रुमाल उसकी बुर पर चिपका के रखा ताकि खून बंद हो. रात के 2:30 बज रहें थे दीदी के ऊपर कपड़ा डाल दिया वो सिसस्क के रो रही थी. मै खुद पर बहोत बुरा भला सोच रहा था दिमाग़ फटने को था वो हीं हाल दीदी का भी. “Bahan Ki Seal Todi”

मुझे कुछ बहोत अफ़सोस हो रहा था की ये क्या किया मैं. और जेब मे रखी भाँग की गोली खाने का सोचा तो और ज्यादा दुख होगा ये सोच कर भाँग की गोली दीदी को खिला दिया और जबरदस्ती एक pak उसे पीला दिया. कुछ देर मे उसके होश चला गया फिर मै ने भी शराब पीकर बैठा रहा ये सोचते की क्या कर दिया मैंने ऐसा कैसे कर सकता हु. मुझे नींद नहीं आई मै सोच लिया मम्मी पापा जिस दिन आएंगे उस दिन हीं एक्सीडेंट मे मरना है.

और 8 बज गाये सोचते सोचते बारिश भी होरही थी दीदी सोरही थी. मैंने बाइक निकाली और केमिस्ट के पास गया उसे बोला gf के साथ सेक्स किया उसके बुर से खून नहीं रुक रहा और मेरा भी चमड़ी तुट गई. फिर उसने कुछ टेबलेट दी और ट्यूब दिया की उसके इसमें लगाना आराम मिलेगा और खुद भी लगा लेना. फिर उसे बोला की दूध पर भी दांत गाड़ गए तो फिर उसने एक और ट्यूब दिया और मुझे आईपील की गोली भी खिलाने को बोल दिया.

मै कुछ खाने का लेकर घर जल्दी पहोच गया पूरा भीगा हुआ था दीदी अभी सोरही थी और मुझे खुद से नफरत. मैंने पाणी गर्म किया जिसे उसके घाव और बदन को पोछ ने के लिए तभी एक unkown कॉल दीदी के मोबइल पर आई. तो मैंने फ़ोन उठाया मोबइल के घंटी से दीदी भी जाग गई थी. तो पापा ने काठमांडू के पीसीओ से कॉल किया था पूछ रहें थे सब ठीक तो है दीदी कहा है पूछे तो मै बोला वो नहा रही है. “Bahan Ki Seal Todi”

फिर दीदी बेड से खड़ी हो गई मै तुरंत घर से बाहर आया. वो बोले काठमांडू से शाम को निकल जायेंगे और मनोकामना देवी के दर्शन लेकर वापस लौट आएंगे. मै फ़ोन कट करके रूम मे आया तो दीदी सामने नंगी हाथ बंधे खड़ी थी उसके दूध एक दम लाल और पेट से लेकर गले तक खरोच के निशान बुर क्लीन थी. शायद कल हीं साफ की होंगी बुर के ओठ फुले हुए और खून सूखा दिख रहा था मै उनसे नजर नहीं मिला पारहा था.

जैसे मै रूम मे थोड़ा आगे बढ़ कर सॉरी बोला उसने मेरे लण्ड पर जोर से लाथ मारदी. मेरे तो होश उड़ गये और दर्द भी बहोत हो रहा था दीदी के टाइट चुद मे लण्ड डालने से मेरा चमड़ा छिल गया था उसमे बहोत दर्द होरहा था. जैसे तैसे खुद को संभाल कर दीदी को बेड पर पटक दिया और उसके पैर भी बांध दिया पर मुझे बहोत ज्यादा तकलीफ होरही थी. तो पैंट वही दीदी के सामने हीं खोल कर लण्ड देखा तो उसमे से खून निकल रहा था और सुपाड़े से चमड़ा पूरा पीछे चला गया था.

बहोत तेज दर्द और खून दोनों निकल रहा था तो दीदी मुझे देख रही थी. उसके आँख सेआंसू और मुझे गुस्से से देख रही थी मैंने फिर केमिस्ट ने दी ट्यूब लगाइ. और ऐसे हीं बैठा रहा दीदी से बोला माफ मत करना पर मैंने तुम्हारे साथ जो किया किसी से मत कहना. माँ पापा 8 दिन बाद घर आने वाले है मेरा ये कृत्या सुनकर आत्म हत्या ना कर ले की किस नीच को जन्म दिया. दीदी मै वादा करता हु की जिस दिन माँ पापा आएंगे मै अपनी जिंदगी ख़त्म कर लूंगा. कम से कम तुम तो रहोगी माँ पापा के साथ उनका कुछ सहारा तो होगा. “Bahan Ki Seal Todi”

पर मेरे किसी भी चीज का उसपर कोई असर नहीं होरहा था फिर मै उनके ऊपर चदर डाल दिया. और मुँह खोल दिया वो बहोत जोर जोर से रोने लगी करीब 20 मिनिट रोती रही थी मै भी रो रहा था. ऐसा लग रहा था की अभी खुद को आग लगा दू करीब आधे घंटे बाद दीदी बोली मेरे हाथ पैर खोल मुझे बाथरूम जाना है. तो मै उसे कहा नहीं खोल सकता बाथरूम मे मै लेकर जाता उसपर वो बोली जिस दिन तू मरेगा ना तेरे ऊपर थूकना भी मुझे पसंद नहीं मै तुझे अपने हाथ से मरना चाहती हु.

मै बोला तुम्हारी इच्छा मै जरूर पूरी करूँगा बस माँ पापा को आने दे. मै उसे खड़ा किया और दोनों पैरो के बिच थोड़ी लम्बी रसी बँधी ताकि वो ज्यादा कुछ ना कर सके और वो बाथरूम मे पोटी करने लगी और सुसु भी. उसके हाथ बंधे थे उसकी पोटी होगई थी हाथ खोलने को बोली की धोना है मै बोला नहीं मै धो देता हु. मैंने संडास मे पाणी डाला और उसकी गांड धो दी और अपने हाथ अच्छे से साबुन से धो लिया और उसके पैर और गांड को टॉवेल से अच्छे से पोछ दिया.

वो बोली की तू हाथ खोल मेरा अकड़ गया है और बहोत दर्द भी कर रहा है. तब मै उसे बोला नहीं खोल सकता तुम बेड पर लेट जाओ मै खोलता. वो लेट गई मैंने उसके दोनों पैरो को बेड के साथ बांध दिया और फिर उसका एक हाथ खोल कर तुरंत बेड के एक साइड मे बांध दिया. वो बोली खोल कमीने मेरा हाथ तब मै दूसरा भी बांध दिया उसे बोला की ये. अब मुझे गालिया दे रही थी कुत्ता सूअर कमीना पर कर कुछ नहीं पारही थी.

गर्म करने के लिए रखा पाणी उबल कर बाहर आरहा था. मै भी चढ़ी पहन के था नहीं मलहम लगाया था और इतना सब होने के कारण कपड़ो की कोई अहमियत नहीं रही थी. मै थोड़ा कुनकुना पाणी किया उसमे डेटोल डाल कर कपड़ा भिगो कर उसका पूरा बदन पोंछने लगा. वो सिर्फ गाली देरही थी उसका फेस गर्दन उसकी जैसे चूची पर आया वो करा उठी फिर भी मै आराम से उनको पोछा उनपर मेरे दांत के निशान साफ दिख रहें थे. “Bahan Ki Seal Todi”

वो बोली कल तो तूने किया आज भी तू मेरे बदन से खेल रहा मुझे नंगी कर के रखा है और खुद भी नंगा. मेरे हाथ खोल मै कर लुंगी मै बोला कल सब होगया अब ये कपडे कितने भी पहनले ये कुछ ढक नहीं सक्ता. मुझे तुम्हे माँ पापा आने से पहले ठीक करना है जो तुम्हारी आत्मा को मेरी वजहसे चोट पहोची है वो तो जिंदगी भर नहीं जाएगी. पर मै शरीर के ऊपर के घाव ठीक कर दूंगा और जो मै तुम्हारे साथ किया और तुम्हारे बदन को देखा 8 दिन बाद ये इस दुनिया मे नहीं रहेगा.

ये सजा मैंने खुद मेरे लिए तय किया हु फिर मैंने ट्यूब निकाला और जहा जहा चोट खरोच आया था वहा लगाने लगा. सबसे ज्यादा दूध पर था वहा आराम से हलके हाथ से लगा रहा था उतने मे मेरा लण्ड फन फ़ना उठा. मेरा ध्यान उसपर मेरा ध्यान नहीं था फिर बुर के पास आकर उसके लिए एक दूसरा मलहम लगाने लगा. उसके बुर का वो छला तीन जगा से तुट गया था वहा छूते हीं उसे दर्द होरहा था छोड़ बोल रही थी.

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : Sister Model Bankar Modern Dress Me Garam Kar Di

पर मै लगा दिया और पैरो को खोल दिया और अपने ऊपर गमछा लपेट लिया और उसे चदर से ढक दिया. फिर ipill की गोली है खा ले बोल कर खिला दिया मेरा तो दिमाग़ हीं काम नहीं कर रहा था. मुझे ना भूक लग रही थी ना हीं नींद थोड़ी देर बाद दीदी कुछ कस मसा रही थी. तो पूछा क्या हुआ कुछ नहीं बोली फिर थोड़ी देर बाद बोली भूक लगी है. सुभ मार्केट से लाया सैंडविच खिलाया उसे और पाणी पिलाया पर मै कुछ नहीं खाया.

2 बजे के लगभग वो बोली सुसु लगी है तो फिर उसके पैर बंधा और हाथ को भी बांध दिया. अब वो कुछ नहीं बोल रही थी और बाथरूम मे पेशाब करने लगी और पेशाब ख़त्म होने पर मैंने उसके पैर और बुर को कपडे से पोछ दिया. दोपर के 2:30 बज रहें थे ऑगस्ट का महीना था लाइन कट हुई तो गर्मी लग रही थी दीदी को भी पसीना आरहा था. और मै उसके घाव को गिला नहीं होने देना चा रहा था और उसे भी गर्मी बर्दास्त नहीं होरही थी.

तो मै बोला चदर हटा रहा पसीना आएगा तो जलन होंगी चदर हटाया तो देखा उसके पेट पर क्लीवेज पर पसीना की बून्द निकल रही. तब मैंने उसे पोछ दिया और उसके पास बैठ कर गमछा से हवा देने लगा वो कुछ बोल नहीं रही थी. उसके हाथ और पैर बांध कर हीं रखा था बैठे बैठे हवा देते हुए मै उसके बाजु मे लेट कर हवा देने लगा और कब नींद आगई पता हीं नहीं चला. शायद मेरे सोते हीं बिजली आ गई हो. “Bahan Ki Seal Todi”

मेरी दीदी मेरे बगल मे नंगी लेटी थी और मै टीशर्ट के निचे सिर्फ गमछा पहना था करीब सात बजरहे होंगे. हाथ पैर बंधे होने से उसे ऐठन होने लगी थी भूक भी लगी थी. वो मेरे पास सर कर आई और आवाज दे रही थी पर मै तो बेहोश सोया था. तो वो बहोत जोर से चिल्लाई तब मै एक दम उठ कर बैठ गया बोली कब से जगा रही हु मेरे हाथ पैर मे दर्द होरहा खोल इसे. तो मैंने कुछ देर के लिए हाथ खोले और पैर भी वो बोली भूक लग रही.

तो मै काली चाय बनाया और उसे पिलाकर दिया खाने के लिए कुछ लाना था तो बाहर गया एक ढाबे से खाना पैक कराया. पर सात मे मेरा और दीदी का मोबइल भी लेकर गया था तब पापा का फ़ोन आया की मानो कामना मंदिर से कुछ दूर लैंड स्लाइड हुआ है कुछ दिन और लेट होगा और पीछे भी गाड़ी नहीं ले सकते यहाँ भारी बारिश के कारण रास्ता बंद है. मै बोला आप अपना ख्याल रखे मै सब संभाल लूंगा उसके बाद फिर मैं घर पहुंच गया.

दीदी दीदी को बोला खाना लाया हु खा लो बोली ब्रश करना है उसे खुद ब्रश करा दिया मुँह हाथ धो दिया. वो बोली मेरे हाथ खोल मै खुद कर लुंगी पर मै बोला तुम बवाल करोगी माँ पापा और 10 दिन लेट होने वाले हैँ. फिर अच्छे से उसका बदन पोछ दिया उसका दूध पर सूजन थोड़ा कम था बुर का भी सूजन कम हुआ. पर बुर मुँह खोल कर थी मेरा लन्ड टाइट हो गया था फिर मै ने मल्हम निकाल कर दूध पर लगाना चालू किया.

उसके निपल पर भी लगा कर अपनी उंगली से धीरे धीरे लगा रहा था उसके निपल खड़े होगये थे. क्लीवेज के बिच मेरे नाख़ून लगे थे वहा भी अछेसे लगा रहा था फिर दूसरे तरफ भी वैसे हीं लगा रहा था. दीदी सिर्फ मुझे हीं देख रही थी बोली रहने दे अब ठीक हैँ अब टच मत कर जो तू किया उसका फल ये मिला हैँ. मुझे अब दूर रह मुज़से तुझे देख कर मुझे घिन हो रही हैँ. मै बोला जो हुआ वो तो हो चूका अब माँ पापा आने तक जीतनी मेरी लाइफ हैँ उतनी लाइफ मे जखम तो भर सक्ता हु मेरे द्वारा जो हुए हैँ. “Bahan Ki Seal Todi”

पर जो तुम्हारे दिल दिमाग़ पर जखम हुआ हैँ उसे भर नहीं सकता. और फिर उसके बुर के पास गया बुर से चिप चिपा पाणी निकल रहा था मै बोला ये चिप चिपा पाणी क्यू निकल रहा. वो बोली मुझे नहीं पता तू दूर रह छूना मत पर मै बोला जल्दी ठीक करना है. वो बोली हो जायेगा पर मै ने ट्यूब निकाल कर लगाने लगा तो और ज्यादा पाणी निकल ने लगा. और वो अपने हाथ से चदर पकड़ रही थी और थोड़ा पैर भी इधर उधर कर रही थी.

मै बोला ज्यादा दर्द होरहा हैँ ना बोली हा मुझे भी बहोत हो रहा हैँ चढ़ी भी नहीं पहन पारहा हु. मै पता नहीं कैसे बहक गया और ये सब कर गया दारू गांजा का नशे ने मेरी और तुम्हारी लाइफ ख़राब की वो अलग. पर मै इतना गिर गया क्या बताऊ असल बात तो ये थी की ये सब के साथ मै पोर्न देख रहा था. और वो पोर्न स्टार लेह गोटी बिल कुल तुम्हारे जैसे हैँ जैसे जुड़वाँ बहन हो बस मै सब भूल गया और ये हरकत कर बैठा.

दीदी बोली रहने दे ज्यादा बने की कोशिस मत कर तू पहले से ऐसा हीं हैँ अगर अच्छा होता तो गाँव छोड़ कर यहाँ नहीं आते. मै बोला की मै दारू गांजा भाँग का आदि हु पर सेक्स पहली बार हीं किया हु और मुझे करना भी नहीं आया नहीं तो तुम्हारे और मेरे उसमे इतने घाव नहीं होते. और मै भी अपने लण्ड पर ट्यूब लगाया वो देख रही थी लन्ड बहोत टाइट होकर था. उसे देख कर दीदी की बुर से और पाणी निकल रहा था.

फिर मैंने मोबइल टीवी से wifi से कनेक्ट कर के लेह gooti को दीदी को दिखाया देख लो बोला ये तुमसे जरा सी भी अलग हो. तो दीदी भी उसे देख कर हैरान होगई और बोली हा ये तो बिलकुल मेरे जैसे हैँ कोई भी इसे देख कर तो मै हु ये हीं सोचेगा. मैने लेह gooti की फ़िल्म ऑन रख कर संडास करने चला गया मूवी पूरी 90 मिनिट की थी और मुझे संडास और नाहा के आने मे करीब 30 मिनिट ज्यादा लग गए. और वो बेड पर तड़प रही थी उसके बुर मे से सफ़ेद चिप चिपा गाढ़ा पाणी निकल रहा था. “Bahan Ki Seal Todi”

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : Chachi Ka Lahnga Khol Kar Pela Chaprasi Ne

मै सिर्फ टॉवेल लपेट कर आया था ये देख कर मुझे डर लगा कही ट्यूब का रिएक्शन तो नहीं हुआ. और मै उसके बुर को अपने हाथ से साहलाने लगा उसके तो होश गायब थे उसके मुँह से निकल गया साहला वहा रुक मत. मै सहलाने लगा बुर पूरी गीली होगई थी बहोत पाणी निकल रहा था उसकी सांसे बहोत तेज थी. तो एक हाथ उसके दूध पर लेकर गया बोली इसे भी दबा जोरसे दबा उसके होश गायब से होगये थे. एक हाथ से बुर दूसरे हाथ से दूध दबाने मे दिकत होरही थी.

तो वो दूसरा भी दबाने के लिए बोलने लगी और कमर ऊपर निचे कर रही थी. फिर मै उसके टांग के बिच आया और दोनों हाथ से उसके दूध तो बाहो हार्ड दबाने लगा. वो कमर उठा कर मुझे पेट और मेरे लण्ड पर झटका मार रही थी मेरा टॉवेल खुल गया और उसकी बुर पर मेरा लण्ड टच होगया. मै उसके दूध दबा रहा था वो पूरी बुर मेरे लण्ड पर रगड़ रही थी ऐसे करते हुए हीं अचानक लण्ड दीदी के बुर मे घुस गया. और वो और कमर ऊपर निचे कर के झाटाका मार रही थी.

फिर मुझे बोली अंदर तक ते झटका मार और मार मै तेज zatake मारने लगा. और 10,15 मिनिट मे उसके बुर मे zad गया और थोड़ी देर धके मारते रहा वो शांत होगई थी. मै उसके ऊपर हीं लेटा रहा उसके मुँह से कोई भी शब्द नहीं निकल रहा था. मै भी 5 मिनिट बाद उसके बाजु मे लेट गया दोनों भी शांत थे फिर मै उठा तो मेरे लण्ड के चमड़ी से हल्का ब्लड निकल रहा था. मैं बाथरूम गया लण्ड धोकर आया और ट्यूब लगाया टीवी पर फ़िल्म चालू हीं थी.

फिर दीदी की तरफ देखा वो दूसरी तरफ देख रही थी मै फिर से सॉरी बोला की फिर मैंने ये हरकत कर दी. वो कुछ नहीं बोल रही थी ना देख रही थी उसके बुर से मेरा वीर्य निकल रहा था. उसने आँख बंद कर ली थी मै ने कपड़ा लेकर उसके बुर से निकल रहें वीर्य को पोछा थोड़ा सा ब्लड भी आरहा था. मै बोला कुछ तो बोलो वो शांत थी मैंने उसकी बुर साफ कर ट्यूब लगा दी वो आँख बंद कर के हीं थी कुछ भी रेस्पॉन्स नहीं.

करीब 2 घंटे बाद मै उसे बोला कुछ खा लो वो बोली मेरे हाथ पैर खोलो मै बोला तुम कुछ कर लोगी. बोली कुछ नहीं करुँगी माँ की कसम, पर मुझे यकीन नहीं था मै बोला पैर खोलता हु सिर्फ. बोली मुझे नहाना हैँ मै बोला गिला मत हो. और दो दिन बोली खोल दे कुछ नहीं करुँगी मै ना बोला बोली पेशाब लगी हैँ. फिर उसे बाथरूम लगाया वो मेरे सामने पेशाब कर रही थी उसे मूत ता देख मेरा लण्ड खड़ा होगया.

ये देख कर अचानक वो हस दी फिर शांत हो गई मैंने उसका बुर पोछा और बाथरूम मे पाणी डाल कर फिर अंदर आया. दीदी बोली भूक लग रही हैँ वो बेड पर बैठ गई हाथ बंधे थे और मूवी रिपीट चालू होगई. मै ने खिचड़ी बना ने के लिए कुकर मे रख दी और कुरकुरे लेकर उसके बाजु मे बैठ कर उसे खिलाने लगा. मूवी मे लेह gooti लण्ड चूस रही थी वो देख कर उसने मेरे लण्ड पर नजर डाली. मेरा भी खड़ा था और खा रही थी मूवी देखते वो भी गर्म हो रही थी मै भी. “Bahan Ki Seal Todi”

मै अचानक बोला इनके बुर लण्ड से खून क्यू नहीं निकल रहा. उसपर वो तुरंत बोल दी पहली बार उनका भी निकला होगा और चुप होगई. अब वो अपने पैर फैला ने लगी जैसे मूवी मे लण्ड बुर मे डालने लगा मेरा भी लण्ड full टाइट होगया. मै उसके मुँह मे कुरकुरे डाल रहा था वो खा रही थी जैसे उसके बुर मे लण्ड का झटका पड़ता वो कराती दीदी मेरे तरफ देख कर मूसकुरा दी. मै भी मुस्कुराया बोला सॉरी दीदी बहक गया था वो कुछ नहीं बोली.

और बेड पर बैठ कर थी लेट गई और पैर थोड़े थोड़े चौड़े करने लगी फिर उसकी बुर से हल्का चिप चिपा पाणी आने लगा. मै बोला ये क्या होरहा बोली कुछ नहीं मै साबुन से हाथ धोकर आया और फिर उसकी बुर पर रख कर साहलाने लगा. वो और exited होगई हीरो लेह gooti की चुद चाट रहा था तो मैंने भी सोचा की कर के देखु. बुर का पूरा खटा सवाद था जीभ लगाते दीदी बोली अच्छा लग रहा. न चाहते हुए भी मै उसकी बुर चाटने लगा जीभ भी अंदर डाल रहा था ये करते मुझे मजा आने लगा था.

वो जोर जोर से मेरे मुँह पर बुर रगड़ रही थी फिर पूरा वाइट पाणी उसके बुर से बाहर आया और वो सेक्सी स्माइल कर रही थी. मै बोला ठीक लगा बोली हा मेरे हाथ खोल दे कुछ नहीं करूँगी मै नहीं बोला थोड़ा ढीला बांध दे फिर तो ढीला बांध दिया चिचड़ी बन चुकी थी. तभी पापा का फ़ोन आया अब मेरी फट गई क्या होगा कपड़ा पहना था नहीं और नेपाल का वही no तो उठा लिया. पापा बोले सुरभि से बात करा. “Bahan Ki Seal Todi”

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : Meri Chut Par Lund Se Rang Lagaya Devar Ne

मेरी और फटी तब वो बोली दे फोन तब देना पड़ा बहोत प्यार से उसने माँ पापा से बात की मेरे बारे मे बोली बहोत ख्याल रखता हैँ. मुझे बहोत सुकून मिला फिर मेरे दिमाग़ मे ये आया की कही ये अच्छी बन कर सुसाइड की तो नहीं सोच रही. फिर मै ने सोच लिया इसके हाथ नहीं खोलना हैँ फिर थाली मे खिचड़ी अचार लेकर आया वो पापा को बाय बोल कर फ़ोन रख दी.

वो बोली अब तो मै ने पापा माँ से भी अच्छे से बात की अब तो हाथ खोल दे मै मूसकुराया बोला हा खोलता खालो पहले. वो बोली मै खुद खा लुंगी हाथ तो खोल मेरा फिर दिमाग़ घुमा स्पीकर पर फ़ोन था कट हुआ या नहीं कट हुआ था तब थोड़ा रिलैक्स हुआ और उसे खिलाने लगा. बोली कब खोलेगा मै बोला जिस दिन माँ पापा आएंगे तब.

दोस्तों आपको ये Bahan Ki Seal Todi कहानी मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे……….


Leave a Reply