Desi Train Me Chudai – ट्रेन में चूत की सेवा करने का मौका मिला


Desi Train Me Chudai

मैं शिवम भोपाल से हूँ, मेरी आजु २९ साल है, मेरा कद ५”११ इंच है, मेरा रंग गोरा है, मैं एक चोदु लड़का हूँ, अब मैं अपनी चौथी स्टोरी लिखने जा रहा हूँ आशा है, आपको पसंद आयेगी. यह स्टोरी मेरी जब मैं रात को ट्रैन से दिल्ली से पंजाब जा रहा था, तब की है मेरा अचानक पंजाब जाने का प्रोग्राम बन गया. Desi Train Me Chudai

मेने स्टेशन से एक जनरल टिकट ली, और ट्रैन मैं चढ़ गया, और टीटी से सेटिंग करके सेकंड क्लास मैं लेली. जब मैं ट्रैन मैं के कोच मैं एंटर हुआ तब वो कोच फर्स्ट क्लास था, और उसके लास्ट मैं २ सीट थी एक निचे और एक ऊपर निचे मैं एक सेक्सी सूंदर लेडी बैठी थी, और साड़ी पहनी हुए थी ऊपर वाली सीट मेरी थी उसका फिगर बहुत प्यारा था, उसका फेस कट बहुत प्यारा था.

वो एक शादी शुदा महिला थी, मैंने उससे कहा मैडम मैं जहा बैठ सकता हूँ, उसने कहा हां जरूर और फिर मैं बैठ गया, उसके बाद मैंने कहा थैंक्स मैं शिवम हूँ, उसने कहा मैं गौरी हूँ. मैंने पूछा आप कहा जा रहे हो, उसने कहा की मैं लमबी जा रही हूँ, मैंने कहा की मैं पंजाब जा रहा हूँ इससे हमारी बात स्टार्ट हो गई, उन्हों ने मेरे को पानी ऑफर, किआ मेने ले लिआ और थैंक्स कहा.

मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी : देवर को पटाने के तरीके ढूढने लगी

फिर हम दोनों आपसे बात करने लगे, साड़ी से उसके गोरे गोरे बूब्स साफ़ दिख रहे थे, साडी का पलु निचे गिरा हुआ था, बहुत सेक्सी थी मन कर रहा था, अभी चोद दू, मेरा लन भी टाइट हो गया था मेरी आंखे उसके बूब्स से हट नहीं रही थी.

जे बात उसने नोटिस कर ली थी, मैंने पूछा मैडम आप क्या करते हो, उसने कहा मैं जॉब करती हूँ, अब्ब मैं अपने मायके जा रही हूँ ओके और मैंने कहा मैं पंजाब जा रहा हूँ, अपने एक कस्टमर से मिलने, उसने पूछा आप क्या करते हो, मैंने कहा की मैं स्पा मैं जॉब करता हूँ ,और समाज सेवा करता हूँ.

तो उसने पूछा कैसे मैंने कहा की बता दू गा ,अभी इतनी जल्दी क्या है अभी तो पूरा सफर पड़ा है, इतने मैं टीटी आ गया और उसने सब की टिकट चेक की और मेरी टिकट बना दी और चला गया. १० मिंट के बाद लाइट स्विच ऑफ हो गई, मेरा लन बिलकुलक टाइट था.

फिर हम बाते करने लगे, उसने पूछा आप कैसे समाज सेवा करते हो ,, मैंने कहा मैं ओरतो को संतुस्टी देता हूँ, मैं एक काल बॉय हूँ, उसने कहा अच्छा, मैंने कहा हांजी. फिर मैंने कहा की मैं अब तक १०० से ऊपर ओरतो संतुस्ट कर चूका हूँ.

चुदाई की गरम देसी कहानी : Chacha Chachi Ki Chudai Dekh Mujhe Garmi Chadhne

गौरी नै कहा की मेरे सामने टिक नहीं पाओ गए, मेरा पति भी टिक नहीं पाता का तुम मुझे हैंडल कर लोगे मैंने कहा पका, यदि कर लिआ तो क्या दोगे, कुछ भी जो तुम कहो. मैंने कहा मैं कोई काम फ्री मैं नहीं करता मेरे चार्जेज ५००० है उसने कहा ओके.

मेरे को नहीं पता था, इतनी जल्दी बात बन जाएगी, फिर मैंने ट्रैन के डिब्बे मैं चकर लगाया और देखा सब सो गए है, और एक रूम खली पड़ा है. मैंने गौरी को उसमे आने को कहा, वो आ गईं मैंने कोच का रूम अंदर से लॉक कर लिआ और गौरी मेरे लन पर टूट पड़ी.

उसने मेरी पेन्ट को खोल दिआ, और मेरे लन को चूसने लगी, मैं उसके बूब्स को उसके ब्लॉउस से आजाद कर दिआ. उसके बूब्स बिलकुल टाइट थे, और निपल पिंक थे, और मैं उसके बूब्स को जोर से दबाने लगा, फिर मैंने उसको खड़ा किया और उसकी साडी भी निकाल दी, उसने मेरे कपडे निकाल दिए, हम बिलकुल नंगे थे.

फिर मैं उसके बूब्स को अपने हाथो मैं पकड़ लिए और उनको मसलने लगा, उसके बाद मैंने उसके निपल को अपने मुँह मैं बर लिआ, और जोर जोर से चूसने लगा. गौरी सिसकरिअ बार रही थी मेरा लन बिलकुल टाइट था गौरी ने अपने हाथो मैं मेरे लन को पकड़ लिआ और उसको ऊपर निचे करने लगी, फिर वो सीट पर बैठ गई और मेरे लन पर टूट पड़ी.

उसने एक बार मैं ही मेरे लन को अपने मुँह मैं बर लिआ और जोर जोर से चूसने लगी फिर मैंने उसके होठो को चूमना चालू कर दिआ, और उसके ऊपर लेट गया और उसकी चूत पर अपना लन रगड़ने लगा, वो सिसकरिअ बरने लगी, और मैं साथ मैं उसके बूब्स को मसलने लगा.

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : मकान मालकिन के पति का लंड खड़ा ही नहीं होता

फिर मैं उसकी टांगों के बिच चला गया और अपना मुँह उसकी चूत के पास ले गया, चूत की खशबू बहुत अच्छी थी, मैंने अपनी जीब को उसकी चूत पर पेहरा और चूत के पानी को टेस्ट किआ, फिर मैं अपनी जीब गौरी की चूत के लिप्स के ऊपर फेरने लगा.

गौरी बिलकुल गर्म थी, और सिसकरिअ बर रही थी, मैं उसको और गर्म कर रहा था, उसकी चूत को चाट के चूत का पानी नमकीन था, और मैं पी रहा था. मजे के साथ गौरी ने मेरे मुँह को अपनी टांगों मैं दबा दिआ था, और मैं अपनी जीब को उसकी चूत मैं अंदर तक लेकर जा रहा था.

फिर गौरी मेरे ऊपर आ गई और मेरे लन को चूसने लगी, और मैं उसकी चूत को चाट रहा था. गौरी मेरे मुँह को चोद रही थी ,अपनी चूत से और मेरे मुँह को अपने चूत मैं निगलना चाहती थी, और मैं पूरा जोर लगा कर उसकी चूत का पानी निचोड़ रहा था, साथ मैं अपनी उंगल उसकी गांड मैं घुसेड़ रहा था.

गौरी ओह ओह ओह आह आह आह आह आह आह कर रही थी, कुछ टाइम के बाद उसकी चूत ढेर सारा पानी छोड़ दिआ, और गौरी जड़ गई और मैंने उसका रस पान किआ, और मेरे लन को अपने मुँह मैं लेकर हे लेट गई. “Desi Train Me Chudai”

फिर कुछ टाइम के बाद मैंने उसको सीट पर लटा दिआ, और मैं उसके ऊपर आ गया ,और अपने लन को उसकी चूत पर सेट किआ, और अपने लन को उसकी चूत पर रगड़ने लगा, मैं उसको गर्म कर रहा था.

फिर सिदा उसकी चूत मैं दाल दिआ, उसकी चूत बिल्कुक गीली थी, और बहुत गर्म थी, मैं अपना लन उसकी चूत मैं पूरी गिहारी तक डके मार रहा था, और पच पच की आवाजे पुरे केबिन मैं गूंज रही थी.

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : दीदी टांगे चौड़ी करके अपनी चूत का छेद दिखने लगी मुझे

वो भी गर्म होने लग गई, और धीरे धीरे मेरा साथ देने लगी, अपने चूतड़ों को ऊपर उठा रही थी, और मैं उसके मुमो को चूसने लग गया था, उसने मेरे को अपनी बहो मैं बर लिआ और मेरे होठो को चूसने लगी.

मैंने भी उसको कस के अपनी बहो मैं बर लिआ, और होटो का रास पान करने लगा, दोनों एक दूसरे को खूब चूम रहे थे, और ऐसी केबिन मैं हम दोनों पसीने के बीगे हुए थे गौरी की खशबू मुझ को शिवम कर रही थी और मैं उसके गले को चूमे लगा.

गौरी मेरे कानो को चूस रही थी और मेरा लन जोर जोर से जटके मार रहा था, गौरी बहुत गर्म हो गई थी, और अपने चित्तड़ो को खूब मेरे लन पर मार रही थी, उसने मेरे पीठ पर नाख़ून खुबो दिआ थे.

फिर गौरी मेरे ऊपर आ गई, और मेरे छाती को चूमे लगी, मैं उसके बालो मैं हाथ फेर रहा था ,फिर वो मेरी पुरे बॉडी को चाटने लगी मैं उसके मुमो को दबा रहा था और कुछ टाइम बाद उसने मेरे लन को अपनी चूत मैं सेट किआ और बैठ गई, पुरे जोर के साथ आगे पीछे होने लगी. “Desi Train Me Chudai”

मैंने अपनी पीठ को पिल्लो से सपोट दी और उसको अपनी गोद मैं गौरी को बैठा लिआ और उसके गले पर अपनी जीब पहरने लगा, फिर हम एक दूसरे के होटो को चूमने लगे ,और उसको अपनी बहो में बार लिआ उसकी खशबू मुझे मदहोस कर रही थी मुझे.

गौरी अपने दको की रफ़्तार बड़ा रही थी, मैंने अपनी पीठ को पिल्लो से सपोट दी, और उसको अपनी गोद मैं गौरी को बैठा लिआ, और उसके गले पर अपनी जीब पहरने लगा. फिर हम एक दूसरे के होटो को चूमने लगे ,और उसको अपनी बहो में बर लिआ उसकी खशबू मुझे मदहोस कर रही थी मुझे, गौरी अपने दको की रफ़्तार बड़ा रही थी, और उसकी चूत मेरे लन को खा रही थी.

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : Kamsin Jawani Ki Aag Boyfriend Se Bujhwaya

लग रहा था वो जड़ने वाली है मैंने भी अपनी दको की रफ़्तार बड़ा दी और दोनों एक दूसरे हम दोनों चरण सीमा पर थे और दोनों साथ मैं ही जड़ गए. दोनों के सासे तेज थी, और दोनों ने खूब एन्जॉय किआ, और गौरी और मैं दोनों एक दूसरे साथ लिप्ट कर ऐसे ही सो गए एक घंटे बाद मेरा स्टॉपेज आने वाला था.

कुछ टीम बाद हम दोनों अलग हुए, और अपने अपने कपडे पहने मोब नो एक्सचज किए, गौरी ने मेरे लिप्स पर किस किआ. और कहा शिवम मुझे बहुत मजा आइए आज तक किसी ने मेरे को ऐसा मजा नई दिआ, जो तुमने दिआ मैं आज बहुत फ्रेश और खुशी फील कर रही हूँ, दिल्ली मैं फिर तुम्हारी सर्विस लूगी, इतने मैं मेरा स्टॉपेज आ गया और मैं उतर गया.

दोस्तों आपको ये Desi Train Me Chudai की कहानी मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे………


Leave a Reply