Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob – दीदी और मौसेरी बहन दोनों को लंड चाहिये 1

[ad_1]

Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob

दोस्तो मैं रियाज कैसे है आप लोग, दोस्तों आपने मेरी पिछली कहानी को पढ़ा और बहुत पसंद किया, अगर आपने मेरी पिछली कहानी बाथरूम में दीदी की चूत दिखाई दी ना पढ़ी हो तो पहले उसे पढ़ ले. अब मैं आप सभी को अपनी दीदी साजिया और मोसी कि लडकी नगमा यानी की मोसेरी बहन के साथ हुई चुदाई की कहानी लिख रहा हू. Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob

दोस्तो मैं अपनी दीदी साजिया को अपना लंड चुसवा चुका हूं और रोज दिन या रात मे दीदी एक बार मेरा लंड जरूर चूसती है लेकिन आज सुबह सुबह मेरी मोसेरी बहन मेरे घर आ गई थी तो आज सुबह से लेकर रात 11 बजे तक मेरा और दीदी का कोइ काम हुआ नहीं मैं परेशान हो गया मेरे लंड में दर्द होने लागा और मैं उठकर देखा तो साजिया दीदी और नगमा दोनो लिपट कर सोई हुई थी.

मैं सीधे बेड से नीचे उतर गया और छत पर चला गया. उपर काफ़ी ठंडी हवा चल रही थी, मैं ठंडी हवा का मज़ा लेते हुए आपने लंड को सहलाते हुए रिलिंग के पास जाकर खड़ा हो गया. छत पर घुप्प अंधेरा था, चाँद भी नही निकला था आज. तभी पीछे से मुझे किसी के आने का एहसास हुआ, कोई दबे पाँव मेरी तरफ आ रहा था.

मैं समझ गया कि ये दीदी ही है, मैं भी अपनी लंड को पूरा कड़क बना दिया था और अपनी हाथ रॉलिंग पर रख दिया वो मेरे पीछे आई और मेरी कमर से अपना सीना लगाकर मुझसे लिपट गयी…गर्म साँसों और नर्म सीने का एहसास मुझे अंदर तक झंझोड़ गया..

मैं ठंडी हवा और गर्म जिस्म के मिले जुले एहसास को महसूस करके सिहर उठा.. वो अपना बदन मेरी पीठ पर उपर से नीचे तक रगड़ने लगी.. उसके कड़क मम्मे मेरी पीठ पर हल जोतने का काम कर रहे थे, उसके निप्पल्स मुझे बुरी तरह से चुभ रहे थे पर इन सबके लिए मैं शिकायत नही कर सकता था क्योंकि ये सब महसूस करके मुझे एक अलग ही तरह के आनंद की अनुभूति हो रही थी.

अचानक उसने अपना एक हाथ आगे किया और मेरे लंड के उपर लेजाकर उसे सहलाने लगी… मैने उसके हाथ को झटक दिया, ताकि उसे भी मेरे गुस्से का एहसास हो… पर ऐसा कुछ नही हुआ, उसने फिर से अपना हाथ मेरे लंड पर लगा कर उसे सहला दिया.

मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी : Anal Sex Ka Practical Kiya Proffesor Ne Meri Gand Par

इस बार मैने कुछ नही किया, क्योंकि स्वार्थ तो मेरा ही था ना, और वैसे भी उसमे डीडी की कोई गलती थी नहीं अब नगमा के रहते डीडी भी कया कर सकती थी ऐसे भी मेरा लंड पूरा खड़ा था उसे एक बार फिर से बिठा कर मैं कोई ग़लती नही करना चाहता था. ओर ऊपर से आज दीन भर की ग़लती का बदला तो मुझे लेना ही था.

इसलिए मैने बिजली की तेज़ी से अपने लंड को बाहर निकाला और उसके हाथ मे पकड़ा दिया… और साथ ही उसकी तरफ घूमते हुए उसे अपने घुटनो पर बिठाया और बड़ी ही बेदर्दी से उसके मुँह मे अपना लंड ठूंस दिया…वो बेचारी घिघिया कर रह गयी पर कुछ बोली नही, मेरी बेरूख़ी और जंगलिपन को उसने बड़े प्यार से कबूल करते हुए मेरे लंड को अपने मुँह मे भर लिया और उसे चूसने लगी…

उसके गर्म मुँह मे मेरा कड़क लंड घुसते ही मेरी आँखे बंद हो गयी, मैं ठंडक से भरे माहॉल मे अपना लंड चुस्वाता हुआ हवा मे उड़ने लगा… सारी दुनिया से बेख़बर होकर मैं इस वक़्त अपनी छत पर खड़ा होकर साजिया दीदी से अपना लंड चुस्वा रहा था, इस वक़्त मुझे इस बात का भी डर नही था कि कोई नीचे से उपर आ जाएगा, कोई हमे पकड़ लेगा…

बस अपनी ही मस्ती मे भरकर मैं अपना लंड चुस्वा रहा था…दीदी भी बड़ी तेज़ी से मेरे लंड को चूस रही थी, उसके चूसने की ताक़त ही इतनी तेज थी कि मेरे लंड की हालत एकदम से खराब होने लगी, सच मे लंड चूसने मे उसका कोई मुकाबला नही था… और जल्द ही उसके मुँह की ताक़त के आगे मुझे हारना पड़ा और मेरे लंड का पानी निकल कर उसके मुँह मे जाने लगा..

और सबसे बड़ी ग़लती मुझसे ये हो गयी उस वक़्त की झड़ते वक़्त मेरे मुँह से ‘आआहह नगमा’ निकल गया… और ग़लती मैने इसलिए कहा क्योंकि जब मेरे मुँह से उसने ये सुना और अपना चेहरा उपर उठाया तो मेरी फट कर हाथ मे आ गयी दीदी पूरा गुस्सा से लाल हो गई मैं तो अभी तक समझ नही पा रहा था कि ये कैसे हो गया, मैने जोर से नगमा का नाम लिया था…

और उसके बाद तो साजिया दीदी मेरी जो हालत करने वाली थी उसका मुझे अंदाज़ा भी नही था. भले ही एक बार का मज़ा मुझे अभी के लिए मिल गया था पर आगे ये सब मिलना दूर की बात थी. अपनी एक ग़लती की वजह से मैने खुद ही अपना खुशी खराब कर दिया था.

साजिया दीदी धीरे से उठी, उनका चेहरा भी देखने लायक था, बाल बिखर चुके थे, चेहरे पर, होंठों पर मेरे लंड से निकला सफेद माल चमक रहा था, आँखे लाल हो चुकी थी, अब वो उत्तेजना की वजह से थी या गुस्से की, मुझे नही पता था.. पर उनकी टी शर्ट मे से उभरे हुए निप्पल्स सॉफ दिख रहे थे, यानी उत्तेजित तो वो भी थी इस वक़्त पर मेरी टाइमिंग की वजह से सब गड़बड़ हो चुका था.. “Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob”

वो मुझे घूरते हुए बोली : “अच्छा, तो मेरा अंदाज़ा सही निकला, ये सब चल रहा है तेरे और नगमा के बीच, ” मैं : “न, नही दी, ये बात नही है, वो तो बस, मैं, ” साजिया दीदी (थोड़ी तेज आवाज़ मे) : “क्या ये बात नही है, मैं तुम्हे सक कर रही हूँ और तुम नगमा का नाम ले रहे हो, क्या मतलब है इसका.. यही ना की ज़रूर तुम्हारे बीच कुछ है बोलो, क्या क्या किया तुम दोनो ने आज से पहले.”

चुदाई की गरम देसी कहानी : Chudte Samay Gandi Baate Kar Rahi Thi Village Aunty

मैं तो सहम सा गया, दीदी की डाँट सुनकर, मैने आज से पहले सोचा भी नही था कि साजिया दीदी से मुझे ऐसी डाँट पड़ेगी, आज से पहले उन्होने ऐसी कोई बात नही की थी.. और मैं तो उनकी डाँट सुनकर मैं धिरे से बोला दीदी जान तभी साजिया दीदी बोली जान मात बोल मै आगे बोलना चाहा, तभी मुझे सीडियो से किसी के आने की आहट हुई.

और वो आहट साजिया दी ने भी सुनी और जैसे ही वो पलटी, तो हमने देखा कि नगमा उपर आ रही है, साजिया दीदी मुझे घूर कर देखी और चुप रहने का इशारा किया, मैने भी उन्हे इशारा करके उनके चेहरे और होंठों पर लगे सफेद माल को सॉफ करने को कहा.

नगमा साजिया दीदी को देखी: “अर्रे, दीदी तुम उपर थी और हम तुम्हे नीचे ढूँढ रहे थे, ”साजिया दीदी तो दूसरी तरफ चेहरा करके अपना चेहरा सॉफ करने मे लगी थी, उन्होने अपना फेस जब दोबारा घुमाया तो वो पहले से ज़्यादा दमक रहा था, उसपर मेरे लंड से निकले पानी की चमक चढ़ चुकी थी, ऐसा लग रहा था जैसे कोई तेल लगाया है दी ने अपने चेहरे पर, और मैने नोट किया कि नगमा उनके दमकते चेहरे को देख कर कहीं खो सी गई है.

इधर साजिया दीदी भी चुप चाप मेरी ओर देखी और मैं दोनो की चुप्पी को देखते हुए नगमा की ओर देखा और बोला नगमा आवो तुम भी बहुत ठंडी हवाएं चल रही है लेकिन नगमा साजिया दीदी को देखते हुए पास में आई और बोली हा दीदी बहुत ठंडी हवा लग रही है और, कुछ देर बाते करने के बाद मैं जल्दी से नीचे आ गया फिर सोने की तैयारी होने लगी.

मैं आपने बेड पर आ गया और कपड़े चेंज करके बेड पर लेट गया, अभी लेटे हुए कुछ ही समय हुआ था की साजिया दीदी और नगमा खिलखिलाती हुई अंदर घुस आई, तभी मैं अपनी आंख बंद कर के सोने का एक्टिंग कर लिया वो दोनों अपनी अपनी कपड़े खोल के दूसरे कपड़े पहन लि जब मैं अपनी आंख खोला मैं उनके कपड़े देख कर कुछ बोलना ही भूल गया. “Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob”

दोनो ने टी शर्ट और निक्कर पहनी हुई थी, नगमा का तो पता नही पर साजिया दीदी को मैने पहली बार निक्कर मे देखा था, वैसे तो साजिया दीदी मेरा लंड चूस चुकी थी पर इस ड्रेस मे उनका मादक जिस्म बड़ा ही सेक्सी लग रहा था.. ख़ासकर उनकी मोटी जांघे, जो केले के थम के तने जैसी मोटी चिकनी थी, और नगमा की तो बात ही ना पूछो, उसने जो शॉर्ट्स पहनी हुई थी, उसमे उसके कूल्हे ऐसे फँसे हुए थे जैसे तरबूज लगा कर आई हो पिछवाड़े मे.. उसकी उभरी हुई गान्ड बड़ी ही कमाल की लग रही थी.

मैं कभी साजिया दीदी को देखता तो कभी नगमा को, तभी साजिया दीदी मुझे अपने ओर घूरते हुऐ देख कर बोली साजिया : “क्या हो गया तुमको, कभी लड़किया देखी नही है क्या, ” मैने झेन्पते हुए अपना चेहरा घुमा लिया.. तभी साजिया दीदी : “ओके, मेरे दिमाग़ मे एक प्लान है कल के लिए, कल हम तीनो माल जाएँगे.. वहाँ मूवी देखेंगे, बाद मे वॉटर पार्क जाएँगे, और रात को केक लाकर घर मे जबरदस्त पार्टी करेंगे.”

मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : आर्केस्ट्रा में नाचने वाली लड़की को चोदने का मज़ा

दोस्तो मेरा बर्थडे था तो दीदी मेरी ओर देखी और मुस्कुराई अब मैं भी हैरान हो रहा था कि साजिया दीदी अब मुझपर गुस्सा भी नही थी, मैने उनकी आँखो मे देख कर ये जानना चाहा पर ऐसा कुछ दिखा ही नही, मैं समझ गया कि मेरे बर्थडे की वजह से शायद मुझे ये जीवनदान मिला है उनकी तरफ से.

वही दूसरी तरफ नगमा भी पहले जैसी चाहक रही थी, उसकी आँखो की चमक बता रही थी कि मुझे देख कर उसके दिल मे क्या हो रहा होगा इस वक़्त, वो मंद-2 मुस्कुरा रही थी, आँखो मे एक नशीलापन भी था जब वो मुझे देख रही थी, ठीक वैसे ही जैसे कोई अपने लवर को देखता है..

मैने भी उसे स्माइल पास की. तभी दीदी बोली कया हुआ कल कोन कोन चलेगा मूवी देखने मैने तो झट से हाँ कर दी साजिया दीदी के इस प्लान को सुनकर, नगमा को भला क्या प्राब्लम होने वाली थी, उन्होने भी हाँ कर दी, और फिर कुछ देर बैठकर वो दोनो वापिस अपनी बेड पर चली गयी, जाते हुए उनके कुल्हो को मैं घूर-2 कर देख रहे थे.. और मेरे मन मे यही आ रहा था कि काश इस वक़्त उन्हे नंगा चलते हुए देख पाता.

लेकिन अभी होने वाला नहीं था हम सो गाए गली सुबह मेरी नींद एक जोरदार आवाज़ के साथ खुली, आँखे खोली तो मेरे सामने सभी लोग खड़े थे, अमी अबू, साजिया दीदी और नगमा बहन, और उन सभी के हाथ मे एक-2 फ्लवर था. “Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob”

मुझे बहुत अच्छा लगा जब सबने मिलकर मुझे बर्तडे विश किया और अमी ने मेरा मुँह भी मीठा करवाया.. आज का दिन बहुत ख़ास होने वाला था. फिर सभी नीचे चले गये, और मैं सीधा बाथरूम मे घुस गया और नहा कर ही बाहर निकला.. मैने उस वक़्त सिर्फ़ एक टवल लपेट रखा था.. और जैसे ही मैने अपनी अलमारी खोली तो मैं उछल पड़ा..

मेरी अलमारी मे साजिया दीदी बैठी थी. मेरी तो कुछ समझ मे नही आया कि ये यहाँ क्या कर रही है, और मुझे डर भी लगा कि उसे इस तरह यहाँ बैठे कोई देख लेगा तो क्या सोचेगा.. पर साजिया दीदी जानती थी कि वो क्या कर रही है.. और मेरी आँखो का डर देख कर वो समझ गयी कि मेरे दिल मे क्या चल रहा है..

साजिया दीदी बोली : “डरो मत, सब नीचे है, अभी कोई उपर नही आएगा.”

मैं : “पर दी, ऐसे, यहाँ क्यों.

वो बड़े ही सेक्सी अंदाज मे बोली : “तुम्हे गिफ्ट भी तो देना था ना.”

मैं : “गिफ्ट, यहाँ.”

वो अपनी आँखे नचा कर बोली : “और नही तो क्या.

मैने भी इस मामले को जल्दी निपटाने के लिए कहा : “ओके दो फिर, जल्दी, इससे पहले कि कोई उपर आ जाए.”

साजिया दीदी अपनी छातियाँ मेरी तरफ लहरा कर बोली : “आइ आम युवर गिफ्ट.”

उनकी ये बात मेरे दिल मे उतर गयी सच कहूँ, साजिया दी की ये बात सुनकर मुझे इतना प्यार आया कि मैने भी दुनिया की परवाह किए बिना उनके चेहरे को पकड़ा और एक जोरदार स्मूच कर दिया उनके रसीले होंठों पर, उम्म्म्ममम माइ बैबी, हॅपी बर्तडे माइ लव,” और उन्होने भी अपनी शहद की दुकान यानी अपने मुँह की चाशनी मेरे लिए खोल दी, जिसे मैं अपने होंठों से किसी जंगली कुत्ते की तरह चाटने लगा..

मेरे हाथ अपने आप उनके बूब्स पर पहुँच गये और उन्हे ज़ोर-2 से दबाने लगे, मेरा लंड टवल मे पूरा खड़ा होकर सामने वाले हिस्से से बाहर निकल आया जिसे साजिया दी ने अपने हाथ मे पकड़ लिया, और फिर मुझे चूमती-2 वो धीरे से नीचे होकर मेरे लंड तक गयी और उसपर भी एक रसीली किस कर दी.

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : सेक्सी इंग्लिश मूवी देख कर छोटी साली को चोद दिया

सच मे, अपनी सिस्टर की तरफ से इससे रसीला गिफ्ट मुझे आज तक नही मिला था. फिर वो उछलकर अलमारी से बाहर निकल आई और बोली : “उम्म्म, मन तो नही कर रहा तुझे छोड़ने का, पर इस वक़्त ज़्यादा पंगा लेना सही नही है, ये तो तेरे बर्तडे की शुरूवात है, आज पूरा दिन तेरे साथ क्या-2 होगा, ये तू भी नही जानता, ” और मुझे एक आँख मारती हुई वो नीचे चली गयी. “Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob”

और मैं, टवल मे खड़ा हुआ, उनकी बात सुनकर अपने आने वाले टाइम का इंतजार करने लगा.. उनकी बात मेरे कानो मे गूँज रही थी..’आज पूरा दिन तेरे साथ क्या-2 होगा, ये तू भी नही जानता’. उन्हे अभी गये हुए 1 मिनिट भी नही हुआ था कि नगमा बहन उपर आ गयी… मैं अभी तक साजिया दी के होंठों से मिली प्यारी सी स्मूच का स्वाद लेने मे लगा था…

नगमा बहन को देख कर मैं फिर से घबरा गया नगमा मेरे करीब आई और बोली : “मैं तुम्हे कल रात से कुछ पूछना चाह रही थी, पर मौका ही नही मिला…” मैं चुप रहा. फिर वो थोड़ा आगे आई और बिल्कुल मेरे जिस्म से लगकर खड़ी हो गयी, इतना करीब की मेरे टावाल का खड़ा हुआ लंड उसकी चूत के उपर वाले हिस्से को टच कर रहा था.

तभी मुझे ये एहसास हुआ कि मेरा लंड अभी तक खड़ा है. नगमा मेरी आँखो मे देखते हुए, मेरे दोनो हाथों को अपने हाथ मे लेकर एक बार फिर से बोली कल रात को साजिया दीदी और तुम छत पर क्या कर रहे थे मैं कुछ भी नहीं बोल रहा था तभी नगमा बहन बोली मैं बताऊं क्या भाई जान मैं बोला ऐसा कुछ नहीं कर रहे थे बस हवा खा रहे थे.

तभी नगमा बहन बोली मैं बताती हूं तुम दोनों कया कर रहे थे इतना कह कर उसने भी अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और उन्हे चूसने लगी.. मेरा तो दिमाग़ ही चलना बंद सा हो गया.. पहले सजीया दी और अब ये नगमा भी… दोनो एक ही तरीके से , बारी-2 मुझे किस कर रहे थे…

मैं तो अभी साजिया दीदी के रसीले होंठों के स्वाद से उभर भी नही पाया था और वैसी ही मिठास एक बार फिर से मेरे मुँह मे भरने लगी थी ये नगमा बहन भी बहुत मस्त होकर मेरी होठ चूस रही थी मैं एक बार फिर से रसीले होंठों की मीठी मिठास मे खो सा गया.. मेरे हाथ आदत के अनुसार उपर उठते चले गये और मैने उसके बूब्स मसल्ते हुए उसे स्मूचना शुरू कर दिया…

पहले धीरे-2 और फिर ज़ोर-2 से… इतनी ज़ोर से कि वो बेचारी को चीख कर बोलना पड़ा : “पागल हो गये हो क्या भाई जान… खून निकलोगे क्या मेरे होंठों से…धीरे करो…” उसकी बात सुनकर मैं होश मे आया और मैने उसके होंठ धीरे -2 चूसने शुरू कर दिए.. फिर अचानक मुझे साजिया दी द्वारा दी गयी लंड वाली किस भी याद आ गयी…

वो जब मेरे लंड पर भी किस करके गयी है तो इसका भी तो फ़र्ज़ बनता है वहाँ किस करने का… इसलिए मैने उसके सिर पर दबाव डालते हुए उसे नीचे खिसकाना शुरू कर दिया..वो समझ तो गयी कि मैं क्या करवाना चाह रहा हूँ पर शायद मेरी तरह डर वो भी रही थी.. वो बोली : “अभी ये मत करवाओ ना प्लीज़… कोई आ जाएगा तो…” “Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob”

कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : Nai Bahu Ne Lund Ka Dard Kam Kar Diya

मैने बड़ी ही बेशर्मी से अपने लंड को टवल के नीचे से निकाला और उसकी गुलाबी आँखो के सामने लहराता हुआ बोला : “सिर्फ़ एक किस, फिर जाने दूँगा..”वो भी मेरे चिकने लंड को देख कर फिसल गयी… और गहरी साँसे लेती हुई वो अपने घुटनो पर बैठी और काँपते हुए हाथों से उसने मेरे लंड को मुँह मे लिया और उसे किस कर दी…

उसके गीले होंठों का एहसास इतना उत्तेजक था कि मेरी आँखे बंद होती चली गयी… मैने उसके सिर को पकड़ कर जैसे ही अपना लंड उसके मुँह मे ठूँसना चाहा वो हँसती हुई खड़ी हो गयी और बोली : “ओहो…. बड़ी जल्दी हो रही है…. थोड़ा वेट करो… आज पूरा दिन तुम्हारे साथ बहुत कुछ होगा… तुम भी नही जानते…” ओर तुरंत बाहर निकल गई ओह्ह्ह तेरि….

सेम बात अभी कुछ देर पहले साजिया दी भी बोल कर गयी थी.. यानी उन दोनो ने पहले से ही प्लानिंग करके ये सब किया था.. सब कुछ डिसाइड हो चुका था, तभी तो दोनो एक-2 करके मेरे पास आई थी, किस किया, लंड को भी किस किया और एक जैसी बात करके मुझे तरसने के लिए छोड़ कर चली गई अब आगे की कहानी भाग 2 में पढ़ना…..

दोस्तों आपको ये Sexy Pyasi Ladkiya Blowjob की कहानी मस्त लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और Whatsapp पर शेयर करे…………….

[ad_2]

Leave a Reply